अमरीका: गुरुद्वारे में गोलीबारी, सात की मौत

इमेज कॉपीरइट Getty

अमरीका के विस्कॉन्सिन राज्य के ओक क्रीक शहर में एक गुरूद्वारे में हुई गोलीबारी की घटना में 7 लोग मारे गए हैं.

पुलिस का कहना है कि इनमें से 4 गुरूद्वारे के अंदर और 3 बाहर पार्किंग में मृत पाए गए.

इस घटना में कई लोगों के ज़ख्मी होने की भी खबरें हैं जिनमें से एक पुलिस अफ़सर और एक बंदूकधारी के ज़ख्मी होने की पुलिस ने पुष्टि की है. तीन अन्य लोग घायल अवस्था में अस्पताल में भर्ती कराए गए हैं, जिनमें गुरूद्वारे के अध्यक्ष भी शामिल हैं.

फिलहाल पुलिस और अन्य सुरक्षा एजेंसियों ने गुरूद्वारे को घेर रखा है.

गुरूद्वारे के बाहर बहुत से सिख और अन्य लोग जमा हो गए हैं जिनके घरवाले और रिश्तेदार गुरूद्वारे के अंदर छिपे हुए हैं. वहां से फ़ोन के ज़रिए कुछ लोगों ने बात की या एसएमएस के ज़रिए संदेश भेजकर बताया कि कई लोग गोलीबारी में ज़ख्मी हुए हैं.

रविवार को स्थानीय समय के अनुसार सुबह लगभग 10 बजकर 20 मिनट पर पुलिस को गुरूद्वारे से फ़ोन किया गया कि वहां गोलीबारी हुई है. जब लोग गुरूद्वारे में जमा हो रहे थे तब गोलियां चलनी शुरू हो गईं.

छुट्टी के दिन इस गुरूद्वारे में सौ से अधिक लोगों के जमा होने की बात कही जा रही थी. खासकर आज जब भारत से कोई नेता भी यहां भाषण देने वाले थे.

अमरदीप कलेका के पिता इस गुरूद्वारे के अध्यक्ष हैं और उन्हें भी गोली लगी है. उनका अस्पताल में आपरेशन जारी है.

कलेका ने गुरूद्वारे के बाहर मीडिया से बात करते हुए कहा,"लगता है कि यह हमला बहुत सुयोजित ढंग से किया गया है. मैंने अपने पिता को फ़ोन किया तो गुरूद्वारे में मौजूद एक अन्य व्यक्ति ने फ़ोन उठाया और कहा कि यहां बहुत से लोगों को गोली लगी है और हमें कई एंबुलेंस चाहिए. मेरी मां अभी भी अंदर हैं और कई लोगों को बंधक बना लिया गया है. कुछ बच्चों को तहखाने में भी बंधक बनाया गया है."

ओक क्रीक के बावेल एवेन्यू पर स्थित यह गुरूद्वारा सन 1980 में बनाया गया था. अब इस गुरूद्वारे में खासकर छुट्टियों के दिन सौ से अधिक लोग जमा होते हैं. इसमें बच्चे भी शामिल होते हैं जो गुरूद्वारे में आयोजित पंजाबी और हिंदी की विशेष शिक्षा भी लेते हैं.

इस शहर की कुल आबादी करीब 32 हज़ार है.

इस बीच शिकागो स्थित भारतीय कॉउसलेट के एक अधिकारी को विसकॉनसन के लिए रवाना कर दिया गया है. भारतीय विदेश मंत्री एसएम कृष्णा भी अमरीका स्थित भारतीय दूतावास से संपर्क में हैं.

संबंधित समाचार