रोमनी बोले अगले अमरीकी राष्ट्रपति- पॉल रयान

अमरीकी उपराष्ट्रपति पद के उम्मीदवार का एलान
Image caption आर्थिक मामलों के जानकार रयान को रोमनी ने अपना सहयोगी चुना है.

नवंबर में होने वाले अमरीकी राष्ट्रपति चुनाव में राष्ट्रपति बराक ओबामा को टक्कर देने वाले रिपब्लिकन पार्टी के उम्मीदवार मिट रोमनी उपराष्ट्रपति पद के लिए अपने उम्मीदवार का ऐलान करने चले तो कुछ और ही कह गए.

उन्होंने प्रतिनिधि सभा में बजट समिति के प्रमुख पॉल रयान को अपना उम्मीदवार बनाया है जो विस्कॉन्सिन से सांसद हैं.

वर्जीनिया के नोरफॉक में अपने सैकड़ों समर्थकों के सामने रोमनी ने रयान को उम्मीदवार बनाने का ऐलान तो किया लेकिन इस दौरान मिट रोमनी की जुबान एक बार फिर फिसल गई और उन्होंने रयान को 'अमरीका का अगला राष्ट्रपति' कहते हुए लोगों के सामने पेश किया.

लेकिन जल्द ही उन्हें अपनी गलती का अहसास हो गया और उन्होंने रयान को अगला उपराष्ट्रपति कहकर भूल सुधार ली.

इससे पहले रोमनी ने विस्कॉन्सिन में एक गुरुद्वारे पर हुए हमले में मारे गए लोगों के प्रति संवेदना प्रकट करते हुए सिख को शेख कह दिया था.

फिर फिसली रोमनी की जुबान

रयान राष्ट्रपति बराक ओबामा के स्वास्थ देखभाल सुधारों के आलोचक रहे हैं. बीबीसी संवाददाता के अनुसार रयान को उपराष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाए जाने से साफ है कि चुनाव में अमरीकी अर्थव्यवस्था बड़ा मुद्दा होगी.

दूसरी तरफ ओबामा के प्रचार अभियान का कहना है कि रयान उन “दोषपूर्ण” आर्थिक नीतियों के हिमायती रहे हैं जिससे "विनाशकारी" गलतियां दोहराई जाएंगी.

रयान ने रोमनी की तारीफ करते हुए कहा, “मिट रोमनी ऐसे नेता हैं जिनके पास काबलियत है, पृष्ठभूमि है और चरित्र है, जिसकी इस अहम समय में अमरीका को ज़रूरत है.”

राष्ट्रपति बराक ओबामा पर निशाना साधते हुए रयान ने कहा, “चार साल के नाकाम नेतृत्व के बाद दुनिया को प्रेरित करने वाले इस देश की आशाएं बुझ रही हैं और उन्हें प्रबल बनाने के लिए किसी की जरूरत है, गवर्नर रोमनी ही वही व्यक्ति हैं.”

पीछे हैं रोमनी

Image caption रयान अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबमा की नीतियों के आलोचक रहे हैं.

65 वर्षीय रोमनी जल्द ही चार अहम राज्यों में बस से दौरा करने वाले हैं जो नवंबर में होने वाले चुनाव में उनकी जीत के लिए अहम साबित होंगे. ये राज्य हैं वर्जीनिया, उत्तरी कैरोलाइना, फ्लोरिडा और ओहायो.

हाल के सर्वेक्षण दिखाते हैं कि रोमनी और ओबामा में कांटे की टक्कर है लेकिन ओबामा को थोड़ी सी बढ़त देखी जा रही है.

रिपब्लिकन पार्टी भी रोमनी के प्रचार अभियान के तौर तरीकों से नाखुश बताई जाती है.

राष्ट्रपति बराक ओबामा के 2011 और 2012 के बजट की काट के तौर पर रोमनी ने जो बजट योजना पेश की, उसे लेकर खासा विवाद हुआ.

इसमें कर, पेंशन और खाद्य सहायता घटाने और सरकारी पैसे से चलने वाली स्वास्थ्य देखभाल सेवा में बड़े बदलावों की बात कही गई है.

इस बजट योजना के अनुसार सरकारी खर्चों में 5.3 खरब डॉलर की कटौती होगी.

रयान ने इन आलोचनाओं को खारिज कर दिया कि इससे कम आमदनी वाले लोगों पर मार पड़ेगी. उनका कहना है कि उल्टे इससे नौकरियां बढ़ेंगी और अक्षमता दूर होगी.

संबंधित समाचार