मिस्र: राष्ट्रपति ने किया सेना प्रमुख को बर्खास्त

मुरसी-तंतावी इमेज कॉपीरइट AP
Image caption राष्ट्रपति मोहम्मद मुरसी और सेना प्रमुख हुसैन तंतावी के संबंध पहले से ही तनावपुर्ण रहे हैं.

मिस्र के राष्ट्रपति मोहम्मद मुरसी के एक प्रवक्ता ने कहा है कि रक्षा मंत्री और सेना प्रमुख फ़ील्ड मार्शल हुसैन तंतावी और उप-रक्षा मंत्री लेफ़्टिनेंट समी अन्नान को बर्खास्त कर दिया गया है.

प्रवक्ता का कहना था कि राष्ट्रपति ने उस संवैधानिक घोषणा-पत्र को भी ख़ारिज कर दिया है जिसमें राष्ट्रपति के अधिकारों में कटौती की बात कही गई थी.

हुसैन तंतावी देश की राजनीति में बहुत ही प्रभावशाली माने जाते थे और वो राष्ट्रपति होस्नी मुबारक के सत्ताकाल में लगभग बीस सालों तक रक्षा मंत्री के पद पर बने रहे थे.

होस्नी मुबारक को पिछले साल देश में हुई क्रांति के बाद पद छोड़ना पड़ा था.

उनकी सत्ता समाप्ति के बाद देश की हुकुमत का कार्यभार एक सैन्य परिषद के हाथों चला गया था. हुसैन तंतावी परिषद के प्रमुख थे.

सवाल

मिस्र में हुई क्रांति के दौरान फौज द्वारा विरोधियों और प्रदर्शनकारियों के ख़िलाफ़ की गई कार्रवाई को लेकर काफ़ी सवाल उठे थे.

मुरसी को जुन में हुए चुनाव में राष्ट्रपति बनाए गए थे. उनका संबंध मुस्लिम ब्रदरहुड से है जो मिस्र में बहुत ही प्रभावशाली है.

मुस्लिम ब्रदरहुड और फौज के बीच पिछले साल सत्ता में हुए बदलाव के बाद से ही संबंध बेहद तनावपूर्ण रहे हैं.

हालांकि ये अभी साफ नहीं है कि क्या राष्ट्रपति के पास सेना प्रमुख को बर्खास्त करने का अधिकार है या नहीं, और क्या सेना प्रमुख इस फैसले को मानेंगे या नहीं.

क़ाहिरा में मौजूद बीबीसी संवाददाता का कहना है कि राष्ट्रपति अपने अधिकारों को और मज़बूत करना चाहते हैं.

मुरसी के शपथ ग्रहण से पहले जिस अंतरिम संविधान की घोषणा की गई थी उसके मुताबिक़ राष्ट्रपति सेना के मामले में कोई फैसला नहीं कर सकते हैं.

सेना की सुप्रीम काउंसिल ने इसकी घोषणा करते समय संसद को भी भंग कर दिया था जिसमें राष्ट्रपति के दल को बढ़त हासिल थी.

संबंधित समाचार