आइसैक तूफान अमरीका की ओर, इमरजेंसी घोषित

 सोमवार, 27 अगस्त, 2012 को 08:05 IST तक के समाचार

आइसेक अब अमरीका की ओर बढ़ता हुआ

हेटी और क्यूबा में तबाही मचाने के बाद, आइसैक तूफान अब अमरीका के दक्षिणी इलाके की ओर बढ़ रहा है जहाँ लुईजियाना, मिसिसिपी और एलाबामा में आपातकाल घोषित कर दिया गया है.

गौरतलब है कि लुईजियाना में सात वर्ष पहले समुद्री तूफान कैटरीना ने न्यू ऑर्लींस इलाके में भारी तबाही मचाई थी और 1800 लोग मारे गए थे.

इससे पहले फ़्लोरिडा राज्य के दक्षिणी इलाके के पश्चिम में आइसैक तूफ़ान के कारण भारी बारिश और तेज़ हवाओं से जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया और वहाँ संभावित राहत कार्यों के लिए संघीय मदद पाने के उद्देश्य से आपात स्थिति की घोषणा की गई थी.

अब तूफ़ान का रूख लुईज़ियाना औऱ मिसिसिपी की ओर है जिस कारण तूफ़ान से बचने के लिए बड़े पैमाने पर तैयारियां की जा रही हैं.

फिलहाल आइसैक तूफान का केंद्र फ़्लोरिडा के पश्चिम में करीब 200 किलोमीटर दूर मेक्सिको की खाड़ी के उपर है.

लेकिन यह तूफ़ान इतना बड़ा है कि इसके बावजूद भी फ़्लोरिडा का ज्य़ादातर हिस्सा इस तूफ़ान की चपेट में है.

रिपब्लिकन सम्मेलन भी इसी समय

आइसैक तूफ़ान ऐसे समय में आ रहा है कि जब फ़्लोरिडा के टेंपा शहर में सोमवार से रिपब्लिकन पार्टी का महा सम्मेलन होने वाला है, जिसमें राष्ट्रपति पद के चुनाव के लिए पार्टी के उम्मीदवार मिट रोमनी के नाम की आधिकारिक तौर पर घोषणा की जानी है.

तूफ़ान के चलते अब इस सम्मेलन की सोमवार को औपचारिक शुरूआत तो की जाएगी लेकिन फ़ौरन ही सम्मेलन को एक दिन के लिए टाल दिया जाएगा. और बाकी कार्रवाई मंगलवार से ही शुरू होगी. जिसके दौरान मिट रोमनी, पॉल रायन समेत रिपब्लिकन पार्टी के अन्य शीर्ष नेताओं के भाषण अहम होंगे.

इस सम्मेलन में हज़ारों लोग भाग ले रहे हैं.

फ़्लोरिडा के गवर्नर रिक स्कॉट का कहना है कि प्रदेश में तूफ़ान से निपटने की पूरी तैयारी कर ली गई है.

गवर्नर स्कॉट कहते हैं, "फ़्लोरिडा बहुत से तूफ़ानों का सामना कर चुका है. हमारे प्रदेश में लोगों को पता है कि तूफ़ान से निपटने के लिए क्या तैयारी करनी चाहिए और हम इसके लिए पूरी तरह से तैयार हैं."

लुईज़ियाना से 170 किमी की गति से टकराएगा

अमरीकी राज्य लुईज़ियाना में पहले से ही तैयारियाँ शुरू हो गई हैं.

अमरीका के राष्ट्रीय हरिकेन सेंटर के अनुसार, संभावना है कि बुधवार को तूफ़ान लुईज़ियाना के तट से 170 किलोमीटर की रफ़्तार से टकरा सकता है. औऱ न्यू आर्लीयंस शहर एक बार फिर समुद्री तूफ़ान की जकड़ में आ सकता है.

तूफ़ान का ख़तरा देखते हुए लुईज़ियाना राज्य के गवर्नर पियूष बॉबी जिंदल ने पूरे प्रदेश में आपातकाल लागू करने की घोषणा कर दी है.

समुद्र तट के करीब स्थित निचले इलाकों में रहने वाले लोगों के लिए इलाका छोड़कर सुरक्षित स्थानों पर जाने के आदेश जारी किए गए हैं.

तूफ़ान से निपटने की तैयारी का ब्यौरा देते हुए लुईज़ियाना राज्य के गवर्नर बॉबी जिंदल कहते हैं, "तूफ़ान के मद्देनज़र मैंने पूरे प्रदेश में इमरजेंसी लागू कर दी है. हम चाहते हैं कि पहले से ही तूफ़ान से निपटने की तैयारी कर ली जाए और खासकर जो समुद्र के किनारे बसे इलाके हैं वहां से लोग अभी से ही इलाके को खाली करना शुरू कर दें."

सन 2005 में कैटरीना नामक तूफ़ान के कारण लुईज़ियाना, मिसिसिपी और एलाबामा राज्यों में करीब 1900 लोगों की जाने गईं थीं और 80 अरब से ज़्यादा की संपत्ति का भी नुकसान हुआ था.

आईसैक तूफ़ान इस साल का चौथा बड़ा तूफ़ान है जो अमरीकी किनारे से टकराया है.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.