ईरान ने परमाणु संयंत्र की क्षमता बढ़ाई: आईएईए

 शुक्रवार, 31 अगस्त, 2012 को 01:13 IST तक के समाचार

फोर्डो का संयंत्र कोम शहर के पहाड़ों के भीतर बना है.

अंतरराष्ट्रीय आण्विक ऊर्जा एजेंसी यानी आईएईए का कहना है कि ईरान ने अपने फोर्डो परमाणु संयंत्र में परमाणु उत्पादन की क्षमता दोगुनी कर दी है.

आईएईए ने अपनी तिमाही रिपोर्ट में ये भी कहा कि ईरान ने पर्चिन सैन्य अड्डे के निरीक्षण करने में भी रूकावटें काफी बढ़ा दी है.

रिपोर्ट ने कहा कि ईरान ने वर्ष 2010 से अब तक 189 किलोग्राम उच्च स्तर का यूरेनियम तैयार किया है जबकि पहले 145 किलो का उत्पादन हुआ था.

ईरान इस बात से इनकार करता आया है कि उसका परमाणु कार्यक्रम का कोई सैन्य मकसद है.

रिपोर्ट में कहा गया कि फोर्डो में संवर्धन के लिए यूरेनियम छड़े बीते मई के 1064 से बढ़ाकर 2,140 कर दिए गए, लेकिन इन नई ने मशीनों ने अभी कार्य शुरु नहीं किया है.

फोर्डो का संयत्र पवित्र माने जाने वाले शहर कोम में एक पहाड़ के अंदर बना है.

क्षमता बढ़ी

ईरान का कहना है कि फोर्डो संयंत्र का लक्ष्य नागिरक इस्तेमाल के लिए यूरेनियम संवर्धन को 20 प्रतिशत बढ़ाना है.

संवर्धित यूरेनियम को परमाणु बिजली बनाने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है. ईरान इसी को अपने परमाणु कार्यक्रम का उद्देश्य भी बताता है. लेकिन पश्चिमी जगत को संदेह है कि ईरान के इनकार के बावजूद उसके परमाणु कार्यक्रम का एक उद्देश्य परमाणु बम बनाना हो सकता है.

इससे पहले एक अमरीकी सुरक्षा संस्थान ने कहा था कि ईरान ने पिछले पांच साल में कम-संवर्धित यूरेनियम की इतनी मात्रा का उत्पादन कर लिया है जिससे कम से कम पांच परमाणु हथियार बनाए जा सकते हैं.

ईरान के परमाणु कार्यक्रम पर नजदीक नजर रखने वाले इंस्टिट्यूट फॉर साइंस एंड इंटरनेशनल सिक्योरिटी (आईएसआईएस) ने मई में जारी अंतरराष्ट्रीय आण्विक ऊर्जा एजेंसी (आईएईए) की रिपोर्ट में दी गई जानकारी के आधार पर ये विश्लेषण किया था.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

इसी विषय पर और पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.