एक महीने में एक लाख लोगों का पलायन

 मंगलवार, 4 सितंबर, 2012 को 19:52 IST तक के समाचार
सीरियाई शरणार्थी

सीरिया की सीमा से लगे तुर्की में हजारों शरणार्थियों ने शरण ली है

संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी एजेंसी (यूएनएचआरसी) का कहना है कि अगस्त महीने में सीरिया से एक लाख से ज्यादा लोग अपना देश छोड़कर भाग गए हैं.

मार्च 2011 में सीरिया में राजनीतिक संकट शुरु होने के बाद से किसी एक महीने में सीरियाई लोगों के पलायन की ये सबसे बड़ी संख्या है.

ग़ौरतलब है कि मार्च 2011 से सीरिया में राष्ट्रपति बशर अल असद की सरकार के खिलाफ पहले प्रदर्शन और फिर सशस्त्र विद्रोह हो रहा है. विद्रोही असद सरकार का इस्तीफा और राजनीतिक सुधार चाहते हैं.

सरकार ने विद्रोहियों के कब्जे वाले इलाकों पर भीषण गोलाबारी की है जिसमें अनेक सीरियाई मारे गए और अन्य घर छोड़कर भागने पर मजबूर हुए हैं.

"सीरिया में तनाव और अस्थिरता बढ़ रही है. जहां लड़ाई हो रही है, हम वहां जरूरतमंदों तक मदद नहीं पहुंचा पा रहे हैं"

रेडक्रॉस प्रवक्ता

यूएनएचआरसी का कहना है कि सीरिया से एक महीने के दौरान भागने वाले लोगों की संख्या 235, 200 हो गई है. ये लोग सीरिया के बाहर राहत शिविरों में पंजीकृत हैं या अपना नाम दर्ज कराने की प्रतीक्षा कर रहे हैं.

वहीं जॉर्डन की सरकार का कहना है कि सीरिया से हर दिन लगभग 1000 शरणार्थी उसकी सीमा में दाखिल हो रहे हैं और जबसे संकट शुरू हुआ है, तब से अब तक 183,000 सीरियाई लोगों ने जॉर्डन में शरण ली है.

इनमें से 103, 416 लोगों ने अगस्त महीने में ही राहत-शिवरों में शरण ली है. लेकिन सीरिया की सीमा से लगे देशों में पहुंचे गैर-पंजीकृत शरणार्थियों की संख्या इससे कहीं ज्यादा मानी जाती है. तुर्की का कहना है कि उसने सीरिया के 80,000 लोगों को शरण दी है जबकि 8000 और लोग सीरिया की सीमा पर इंतजार कर रहे हैं.

सीरिया पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों को चीन और रूस वीटो कर चुके हैं. इसकी वजह से सीरिया के संकट के राजनयिक समाधान की गुंजाइश कम नजर आती है.

सीरिया के लिए संयुक्त राष्ट्र-अरब लीग के नए दूत लख्दर ब्राहिमी ने बीबीसी से कहा था कि वे 'लगभग असंभव जिम्मेदारी' का सामना कर रहे हैं.

अगस्त में हिंसा सबसे ज्यादा

सीरिया के एलिपो शहर में भीषण बमबारी हुई है

यूएनएचआरसी की प्रवक्ता मेलिसा फ्लेमिंग ने सीरिया से इतनी बड़ी संख्या में लोगों के पलायन पर चिंता जताई है. इस बारे में रेडक्रास के प्रमुख पीटर म्यूरर ने सीरिया के राष्ट्रपति असद से बात भी की है.

सीरिया के लिए अगस्त का महीना सबसे ज्यादा हिंसक साबित हुआ है. विपक्ष समर्थक सीरियन ऑब्ज़रवेटरी फॉर ह्यूमन राइट्स का कहना है कि सीरिया में अगस्त में 5000 से ज्यादा लोग मारे गए हैं. बीते हफ्ते ही संयुक्त राष्ट्र बाल कोष ने 1600 लोगों के मारे जाने का अनुमान जताया था.

रेडक्रास प्रमुख की राष्ट्रपति असद से मुलाकात एक घंटे से भी कम की थी, लेकिन रेडक्रास के प्रवक्ता ने इसे 'सकारात्मक' बताया था.

सीरिया के सरकारी टेलीविज़न का कहना है कि राष्ट्रपति असद ने रेडक्रास के मानवीय कार्यों का तब तक समर्थन किया है जब तक वो 'स्वतंत्र और बिना किसी पक्षपात' के काम कर रही है.

रेडक्रास की प्रवक्ता सेसीलिना गोइन ने बीबीसी को बताया, ''सीरिया में तनाव और अस्थिरता बढ़ रही है. जहां लड़ाई हो रही है, हम वहां जरूरतमंदों तक मदद नहीं पहुंचा पा रहे हैं.''

सीरिया के दूसरे बड़े एलेप्पो के कुछ इलाकों के बारे में कहा जा रहा है कि वहां किसी तरह पहुंचना संभव नहीं है. खबर है कि सीरियाई सेना के एक कमांडर ने शहर पर दस दिनों के भीतर दोबारा नियंत्रण स्थापित करने की बात कही है.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.