अमरीका में मुसलमान मेजर की दाढ़ी का सवाल

 शुक्रवार, 7 सितंबर, 2012 को 15:44 IST तक के समाचार
मेजर निदाल हसन

मेजर निदाल हसन अमरीकी सेना में मनोविज्ञान विशेषज्ञ रह चुके हैं

अमरीका की एक सैन्य अदालत ने आदेश दिया है कि यदि एक मेजर अपनी दाढ़ी खुद नहीं काटते तो जबरदस्ती उनकी दाढ़ी काट दी जाएगी क्योंकि ये सेना के नियमों के खिलाफ है.

मेजर निदाल हसन इस्लाम धर्म के अनुयायी हैं और उनके वकीलों का कहना है कि दाढ़ी उनके धर्म का प्रतीक है और जबरदस्ती उनकी दाढ़ी कटवाना उनके अधिकारियों का हनन होगा.

मेजर निदाल हसन पर आरोप है कि उन्होंने 2009 में अमरीकी राज्य टेक्सस के सैन्य अड्डे फोर्ड हुड में फायरिंग करके तेरह लोगों की जन ले ली और अनेक को घायल कर दिया था.

"दाढ़ी मेजर निदाल के धर्म इस्लाम का प्रतीक है. उन्हें अपनी मौत का पहले से अहसास है और उन्हें यकीन है कि दाढ़ी के बिना मौत एक गुनाह है. यदि जबरदस्ती उनकी दाढ़ी कटवाई जाती है तो ये उनके अधिकारियों का हनन होगा"

मेजर निदाल के वकील

अभियोजन पक्ष का कहना है कि निदाल हसन की दाढ़ी के कारण उस घटना के प्रत्यक्षदर्शियों को उन्हें पहचानने में दिक्कत हो रही है.

'जिम्मेदारी लेने को तैयार'

लेकिन मेजर हसन के वकील इन दावों को सही नहीं मानते हैं. उनके मुताबिक निदाल हसन तो अपना जुर्म कबूल करने और इसकी 'जिम्मेदारी लेने को तैयार' हैं.

वकीलों के मुताबिक, उन्होंने अमरीकी सेना के उन नियमों को बदलने की भी कोशिश की जो मौत की सजा वाले मामले में अभियुक्त को अपना गुनाह स्वीकार करने से रोकते हैं.

अभियुक्त मेजर निदाल के वकीलों का कहना है, "दाढ़ी मेजर निदाल के धर्म इस्लाम का प्रतीक है. उन्हें अपनी मौत का पहले से अहसास है और उन्हें यकीन है कि दाढ़ी के बिना मौत एक गुनाह है. यदि जबरदस्ती उनकी दाढ़ी कटवाई जाती है तो ये उनके अधिकारियों का हनन होगा."

अमरीका में सेना के नियमों के अनुसार सैनिकों को दाढ़ी रखने की अनुमति नहीं है.

जज ने अपने हुक्म में कहा है कि अभियुक्त निदाल ये साबित करने में नाकाम रहे हैं कि उन्होंने ये दाढ़ी धार्मिक श्रद्धा के कारण बढ़ा रखी है.

अगर 41 वर्षीय मेजर नदाल को दोषी करार दिया जाता है तो उन्हें मौत की सजा सुनाई जा सकती है.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

इसी विषय पर और पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.