मां ने की गर्भ में पल रहे शिशु की हत्या

Image caption कैट का अपने एक सहकर्मी के साथ प्रेम संबंध था

ब्रिटेन में एक महिला ने अपने गर्भ में पल रहे शिशु का प्रीग्नेंसी के आखिरी चरण में खुद गर्भपात कर दिया. उसे आठ साल के कारावास की सज़ा सुनाई गई है.

उत्तरी यॉर्कशायर की रहनेवाली सारा लुइस कैट नाम की 35 वर्षीय इस महिला ने 39 हफ्ते के अपने गर्भ को खत्म करने के लिए दवा का इस्तेमाल किया.

उसका कहना था कि बच्चा मरा हुआ पैदा हुआ था और उसने उसे दफ़ना दिया था. लेकिन उसके बच्चे का कोई सबूत कभी नहीं मिल पाया.

लीड्स की अदालत के जज ने कहा कि कैट ने अपना गर्भ समाप्त करने का फैसला जान-बूझकर और सोच-समझकर लिया था.

अदालत को ये जानकारी मिली कि पहले से ही दो बच्चों की मां कैट को लीड्स के एक अस्पताल में 30वें हफ्ते में पता चला कि वो गर्भवती है.

ज़हर का सेवन

उन पर संदेह तब और बढ़ गया जब बच्चे के जन्म का रजिस्ट्रेशन उन्होंने कई हफ्ते बाद भी नहीं करवाया.

अदालत को ये बताया गया कि कैट का पिछले सात वर्षों से अपने एक सहकर्मी के साथ प्रेम चल रहा था.

कैट के पति को नहीं पता था कि वो गर्भवती हैं और गर्भ समाप्त करने के बारे में भी उन्होंने अपने पति से कोई सलाह नहीं किया था.

कैट ने अदालत को बताया कि उन्होंने क़ानूनी तरीके से मैनचेस्टर के एक क्लीनिक में गर्भपात करवाया था.

लेकिन उनके कम्प्यूटर की जांच से ये पता चला कि उन्होंने मुंबई की एक कंपनी से प्रसव करवाने वाली दवा इंटरनेट के ज़रिए मंगाई थी.

कैट ने इसी साल जुलाई में ये क़बूल कर लिया था कि गर्भपात के इरादे से उन्होंने ज़हर का सेवन किया था.

उन्होंने एक मनोचिकित्सक को बताया था कि जब उनके पति घर पर नहीं थे तो उन्होंने दवा खाई थी और घर पर ही शिशु को जन्म दिया था जो कि लड़का था.

कैट ने बताया कि बच्चा पैदा होने के बाद सांस नहीं ले रहा था और उसके शरीर में कोई हरकत भी नहीं थी इसीलिए उन्होंने उसे दफना दिया था, लेकिन कैट ने ये नहीं बताया कि बच्चे को कहां दफनाया था.

कोई पछतावा नहीं

अदालत को ये भी बताया गया कि 1999 में कैट ने अपने एक बच्चे को गोद लेने के लिए दिया था.

उसके बाद उन्होंने अपने पति की रज़ामंदी से एक बार गर्भपात करवाया था. उसके बाद एक और मौके पर भी उन्होंने गर्भपात करवाने की कोशिश की थी लेकिन गर्भपात करवाने की क़ानूनी सीमा चूक गई थीं.

उसके बाद कैट ने अपने पति से बच्चे के जन्म के पहले एक और प्रीग्नेंसी भी छिपाई थी.

जज ने कहा कि कैट ने बच्चे को उसके जीने के अधिकार से वंचित किया है इसलिए ये हत्या और नरहत्या के बीच का मामला है.

सज़ा सुनाते हुए जज ने कहा कि कैट ने ये सोचा कि ये बच्चा उसके प्रेमी का है और अपने कृत्य पर कोई उन्होंने कोई पछतावा भी नहीं था.

मामले की जांच का नेतृत्व करनेवाले पुलिस अधिकारी ने इसे असामान्य और बेहद उलझा हुआ मामला बताया है.

संबंधित समाचार