नेटो हमले में आठ अफ़गान महिलाओं की मौत

 रविवार, 16 सितंबर, 2012 को 22:35 IST तक के समाचार
नेटो

इस साल तथाकथित अंदरूनी हमलों में विदेशी सेनाओं के 50 सैनिक मारे जा चुके हैं

अफगानिस्तान में लघमान के पूर्वी सूबे में नेटो के एक हवाई हमले में आठ से अधिक महिलाओं के मारे जाने की खबर है.

लघमान के एक प्रवक्ता ने कहा है कि महिलाएं पहाडियों की तरफ लकड़ियां इकट्ठी करने जा रहीं थी जब उन पर हमला हुआ.

अफगानिस्तान के राष्ट्रपति हामिद करज़ई ने इस हमले की कड़े शब्दों में निंदा की है और कहा है कि घटना की जांच के लिए वो एक टीम लघमान प्रांत के लिए रवाना कर रहे हैं.

उधर नेटो के प्रवक्ता का कहना है कि उसने हवाई हमले में 30 हथियारबंद चरमपंथियों को मार गिराया है.

उसने कहा कि यह हमला उस इलाके में किया गया जहां कोई आम नागरित मौजूद नहीं थे.

इससे पहले अफगानिस्तान में हुए चरमपंथी हमले में नेटो सेना के चार सैनिक मारे गए थें. समझा जाता है कि इस हमले को अफगान पुलिस के सदस्यों ने अंजाम दिया.

नेटो ने बताया कि रविवार को दक्षिणी जबुल प्रांत में ये हमला हुआ. खबरों के मुताबिक इस हमले में अंतरराष्ट्रीय सेनाओं के कुछ सैनिक घायल भी हुए हैं.

इससे पहले शनिवार को पुलिस की वर्दी पहने हुए एक व्यक्ति ने दो ब्रितानी सैनिकों की गोली मार कर हत्या कर दी.

शुक्रवार को भी दक्षिणी अफगानिस्तान में तालिबान के हमले में दो अमरीकी नौसैनिक मारे गए.

तालिबान ने बीबीसी को बताया कि शुक्रवार का हमला अमरीका में बनने वाली उस फिल्म के जवाब में किया गया है जिसमें पैगंबर मोहम्मद का मजाक उड़ाया गया है. इस फिल्म को लेकर मुस्लिम जगत में विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं.

सुरक्षा चौकी पर हमला

जबुल के उप पुलिस प्रमुख गुलाम जेलानी फराही ने बीबीसी को बताया कि अफगान राष्ट्रीय पुलिस के एक अफसर ने गोली मार कर चार लोगों की हत्या कर दी.

अफगानिस्तान में हमला

विदेशी सेनाएं 2014 के अंत तक अफगानिस्तान छोड़ देंगी.

उन्होंने कहा कि ये सैनिक उस वक्त मारे गए जब वो पाकिस्तान से लगने वाले प्रांत जबुल के एक दूर दराजे इलाके मेजान में पुलिस चौकी पर चरमपंथी हमले को रोकने की कोशिश कर रहे थे.

नेटो के प्रवक्ता जैमी ग्रैबील ने समाचार एजेंसी एपी को बताया कि हमलावर अभी तक फरार है, लेकिन ये अभी साफ नहीं है कि हमलावर अकेला था या उसके साथ कुछ और भी लोग थे. मामले की जांच शुरू हो चुकी है.

इस साल तथाकथित अंदरूनी हमलों में विदेशी सेनाओं के 50 सैनिक मारे जा चुके हैं जिन्हें अफगान पुलिस और सेना के सदस्यों ने अंजाम दिया.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.