चीन से तनाव, जापान में 'अमरीकी मिसाइल'

जापान और अमरीका के रक्षा मंत्री
Image caption अमरीका कई सालों से जापान के साथ मिसाइल रक्षा प्रणाली विकसित कर रहा है

अमरीका और जापान के बीच जापान की धरती पर दूसरी मिसाइल रक्षा प्रणाली लगाए जाने पर सहमति बनी है.

जापान की यात्रा पर गए अमरीकी रक्षा मंत्री लेयॉन पेनेटा ने कहा है कि इससे दोनों देशों को उत्तर कोरिया से मिसाइल के खतरा का समान करने में मदद मिलेगी.

बीबीसी संवाददाता का कहना है कि अमरीका और जापान को चीन की तेज़ी से बढ़ती हुई सैन्य क्षमता से चिंता है. हालांकि दोनों देशों ने कहा है कि इस मिसाइल प्रणाली का लक्ष्य चीन नहीं है, लेकिन इस फैसले से चीन खासा नाराज हो सकता है.

महत्वपूर्ण है कि चीन में पिछले कुछ दिनों से जापान विरोधी प्रदर्शन चल रहे हैं. ये प्रदर्शन कुछ विवादित टापुओं के कारण हो रहे हैं.

जापानी फैक्टरियाँ बंद

विरोध प्रदर्शन तब शुरु हुए जब जापान ने घोषणा की कि उसने ईस्ट चाइना सी में स्थित इन टापुओं के जापानी मालिकों से इन्हें खरीदने का करार किया है.

चीन, जापान और ताईवान तीनों इन टापुओं पर अपना हक जतलाते हैं.

कई दिनों से चीन में हो रहे प्रदर्शनों के बाद पैनासॉनिक और कैनॉन समेत कई जापानी कंपनियों ने चीन में अपनी फैक्टरियाँ बंद करने का फैसला किया है. इन फैक्टरियों पर प्रदर्शनकारियों ने हमले किए हैं.

चीन के सरकारी अखबार पीपुल्स डेली ने चेतावनी दी है कि यदि वो टापुओं के मामले पर उकसाने वाली कार्रवाई करता है तो उसे आर्थिक खामियाजा भुगतना पड़ सकता है.

अप्रैल में दागा था रॉकेट

जापान और अमरीका कई सालों से संयुक्त मिसाइल रक्षा प्रणाली पर काम कर रहे हैं.

फिलहाल ये स्पष्ट नहीं हुआ है कि इस प्रणाली को जापान में कहाँ लगाया जाएगा.

नई व्यवस्था के स्थापित होने के बाद जापान के समुद्री जहाज अब कई नए इलाकों में भी जा पाएँगे.

पेनेटा का कहना था, "इससे जापान, सीमाओं पर तैनात फौजों और अमरीका की उत्तर कोरियाई मिसाइल खतरों से सुरक्षा करने की इस गठबंधन की क्षमता बढ़ेगी."

अप्रैल में उत्तर कोरिया ने एक लंबी दूर तक मारे करने वाले रॉकेट का असफल परीक्षण किया था और कहा था कि ये उसकी एक उपग्रह को कक्ष में पहुँचाने की कोशिश थी.

लेकिन उत्तर कोरिया के आलोचकों का कहना था कि ये मिसाइल तकनीक को टेस्ट करने का प्रयास था और संयुक्त राष्ट्र के प्रस्तावों के मुताबिक उत्तर कोरिया को ऐसा करने की अनुमति नहीं है.

संबंधित समाचार