रोमनी की चूक पर ओबामा की चुटकी

  • 19 सितंबर 2012

अमरीकी राष्ट्रपति पद के रिपब्लिकन दावेदार मिट रोमनी की चूक ने मौजूदा राष्ट्रपति बराक ओबामा को उन पर हमला करने का एक सुनहरा मौका दे दिया है.

एक मशहूर टीवी शो में ओबामा ने कहा है कि जो व्यक्ति अमरीका का राष्ट्रपति बनने का ख़्वाब देखता है उसे सभी अमरीकियों के लिए काम करना चाहिए.

दरअसल किसी ने मिट रोमनी को ये कहते हुए गुपचुप तरीके से कैमरे में क़ैद कर लिया था कि 47 फ़ीसदी अमरीकी ‘पीड़ित’ महसूस करते हैं.

Image caption ओबामा ने लैटरमैन शो पर कहा कि राष्ट्रपति को सारे अमरीकियों का प्रतिनिधित्व करना चाहिए.

ओबामा ने डेविड लैटरमैन के मशहूर टीवी कार्यक्रम में कहा कि रोमनी का अमरीकियों को 'पीड़ित' बताना ग़लत है.

इससे पहले मिट रोमनी ने अपने बयान का बचाव करते हुए फॉक्स न्यूज़ को बताया कि जो लोग सरकार पर आश्रित हैं वो उन्हें मत नहीं डालेंगे.

'सबका राष्ट्रपति'

मंगलवार को वीडियो के और अंश सामने आए हैं जिनमें रोमनी कह रहे हैं कि फ़लस्तीनी मध्य-पूर्व में अमन नहीं चाहते.

लैटरमैन के कार्यक्रम में ओबामा ने कहा कि उन्होंने 2008 के चुनावों के दौरान ही कहा था कि वो सभी अमरीकियों के लिए काम करेंगे, उनके लिए भी जो उन्हें मत नहीं डालेंगे.

ओबामा ने कहा, “राष्ट्रपति के रूप मैंने जो एक बात सीखी है वो है कि आप सारे देश का प्रतिनिधित्व करते हैं. इस देश में कई लोग हैं जो सोचते हैं कि वो पीड़ित हैं और उन्हें सरकारी सहायता की ज़रुरत है.”

उधर फ़लस्तीन के बारे में दिए गए रोमनी के बयान पर कड़ी प्रतिक्रियाएं सामने आ रही हैं. रोमनी को वीडियो में ये कहते सुना जा सकता है कि फ़लस्तीन तो बस इसराइल को नष्ट करना चाहता है और उसकी अमन में कोई दिलचस्पी नहीं है.

फ़लस्तीन के प्रमुख वार्ताकरा साएब एरेकात ने रॉयटर्स को बताया है कि जो लोग इसराइल के कब्ज़े को बनाए रखना चाहते हैं, वही ये कहेंगे की फ़लस्तीन की शांति में रुचि नहीं है.

संबंधित समाचार