स्पेन में प्रदर्शनकारियों पर डंडे बरसे

Image caption स्पेन में आर्थिक कदमों का विरोध कर रहे लोग सड़कों पर

स्पेन की पुलिस ने किफ़ायती कदमों के खिलाफ रैली में भाग ले रहे प्रदर्शनकारियों पर डंडे बरसाए हैं. प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच भिड़ंत उस समय हुई जब भीड़ ने मेड्रिड में संसद की तरफ जाने वाले रास्ते के अवरोधकों को तोड़ने की कोशिश की.

संसद भवन के चारों तरफ धातु अवरोधक लगाए गए थे ताकि हर दिशा से लोगों को वहाँ पहुँचने से रोका जा सके.

स्पेन के प्रांतों ने सरकार पर बेलआउट पैकेज देने और जल्दी चुनाव कराने के लिए दबाव बनाया है. अंदलूसिया क्षेत्र की प्रवक्ता ने रॉयटर्स समाचार एजेंसी से इस बात की पुष्टि की है कि वह केंद्र सरकार से 4.9 अरब यूरो के आपात कर्ज़ की मांग करने के बारे में विचार कर रहा है.

दूसरे तीन क्षेत्र कटालोनिया, वेलेन्शिया और मरर्सिया पहले ही कह चुके हैं कि उन्हें भी आपात कोष की जरूरत होगी.

कटालोनिया के प्रेसिडेंट आर्टर मास ने निर्धारित समय से पहले, 25 नवंबर को चुनाव कराने का फैसला किया है. राजनीतिक विष्लेशक इस कदम को प्राँत के लिए और अधिक स्वायत्ता की मांग पर जनमत संग्रह कराने के तौर पर देख रहे हैं.

100 अरब यूरो से भी अधिक मदद की जरूरत

यूरोप में इस बात को लेकर काफी चिंता है कि स्पेन को 100 अरब यूरो से भी अधिक की अंतर्राष्ट्रीय मदद की दरकार होगी. जून में यूरो ज़ोन के वित्त मंत्री स्पेन के बैंकों को मदद पहुँचाने के लिए 100 अरब यूरो की सहायता का वादा कर चुके हैं.

बीबीसी यूरोप के संपादक गाविन गेविट ने ट्वीट किया है कि मेड्रिड में पुलिस ने प्रदर्शन कर रहे लोगों पर रबड़ की गोलियां चलाई हैं. इस झड़प में कम से कम एक प्रदर्शन कारी घायल हो गया है और पुलिस ने संसद की तरफ बढ़ते लोगों को रोकने के लिए गिरफ़्तारियाँ की हैं.

संसद की तरफ कूच करने की मंशा रखते हुए हजारों लोग मध्य मेड्रिड के प्लाज़ा दे नेप्ट्यूनो चौक पर एकत्रित हो गए हैं लेकिन स्पेन की दंगा विरोधी पुलिस के सैकड़ों जवानों और वाहनों ने संसद के मुख्य द्वार तक जाने वाले रास्ते को रोका हुआ है.

एएफ़पी का कहना है कि स्पेनिश कानून के अनुसार संसद के बाहर प्रदर्शन करने वाले या इसके सत्र के दौरान इसकी कार्रवाही में बाधा डालने वाले लोगों को एक साल तक की जेल की सज़ा सुनाई जा सकती है.

संबंधित समाचार