क्या अमरीकी ड्रोन की नक़ल है ईरानी ड्रोन?

ईरान का दावा है कि उसने लंबी दूरी की उड़ान भरने वाला एक मानवरहित ड्रोन तैयार कर लिया है जो पूरे मध्य पूर्व के ऊपर उड़ान भरने की क्षमता रखता है.

सरकारी मीडिया के अनुसार रिवोल्यूशनरी गार्ड कोर का कहना है कि शाहेद129 की क्षमता 2000 किलोमीटर की है और इसमें मिसाइल और बम लगाए जा सकते हैं.

ऐसी रिपोर्टें है इस ड्रोन में सैन्य सर्वेक्षण करने के साथ ही लड़ाकू क्षमता भी है.

पिछले साल ईरान के प्रशासन ने एक ऐसा अमरीकी ड्रोन दिखाया था जिसे लेकर उनका दावा था कि उन्होंने उसे इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों का इस्तेमाल करके जबरन अपने यहाँ उतार लिया था.

हालांकि अमरीका ने कहा था कि ईरान ने न ही उसके ड्रोन आरक्यू-170 सेंटीनल को मार गिराया और न इलेक्ट्रॉनिक या साइबर तकनीक का इस्तेमाल कर उसे नीचे उतारा. उनका कहना था कि ड्रोन में खराबी आ गई थी.

रक्षात्मक

बाद में आईआरजीसी के एयरोस्पेस प्रोग्राम के प्रमुख आमिर अली हजीजादेह का कहना था कि वे अमरीकी ड्रोन की नकल बनाने की कोशिश कर रहे हैं. वैसे अभी ये स्पष्ट नहीं है कि शाहेद 129 उस अमरीकी ड्रोन से कितना मिलता-जुलता है.

खाड़ी में अमरीका और सहयोगियों के बीच नौसैन्य अभ्यास के बाद ईरान ने ये ड्रोन पेश किया है.

ये अभ्यास एक ऐसे समय में हुआ था जब ईरान के परमाणु कार्यक्रम को लेकर पश्चिम और ईरान में तनाव बढ़ा हुआ है.

सोमवार को राष्ट्रपति महमूद अहमदिनेजाद ने कहा था कि वो ईरान के परमाणु संयंत्रों पर इसराइल के सैन्य हमले की धमकी से चिंतित नहीं हैं.

उन्होंने संयुक्त राष्ट्र के महासचिव बान की मून की उस अपील को भी खारिज कर दिया था जिसमें बान ने इसराइल और ईरान से भड़काऊ शब्दों का इस्तेमाल करने से बचने को कहा था. अहमदीनेजाद ने कहा था कि आधुनिक इसराइल की जड़े मध्यपूर्व में नहीं हैं और उसे आखिरकार ख़त्म कर दिया जाएगा.

इसराइल के प्रधानमंत्री बेन्जामिन नेतन्याहू ने हाल ही में चेतावनी दी थी कि ईरान परमाणु बम बनाने के लिए "90 प्रतिशत" सामग्री जुटाने से सिर्फ़ 6-7 महीने दूर है. उन्होंने अमरीका से कहा है कि वो ईरान के लिए एक सीमा तय कर दे जिसे पार करने पर सैन्य कार्यवाई की जा सकती है.

लेकिन ईरान हर बार यही कहता है कि उसका परमाणु कार्यक्रम शांति के लिए है.

संबंधित समाचार