BBCHindi.com
अँग्रेज़ी- दक्षिण एशिया
उर्दू
बंगाली
नेपाली
तमिल
 
बुधवार, 03 जून, 2009 को 05:49 GMT तक के समाचार
 
मित्र को भेजें   कहानी छापें
मीरा कुमार बनीं पहली महिला स्पीकर
 
मीरा कुमार
मीरा कुमार को सर्वसम्मति से लोकसभा अध्यक्ष चुना गया है

मीरा कुमार बुधवार को लोकसभा की स्पीकर चुन ली गई हैं. वे भारत की पहली महिला लोकसभा स्पीकर हैं.

मीरा कुमार दलित समुदाय से हैं और वे पूर्व उप प्रधानमंत्री जगजीवन राम की बेटी हैं.

स्पीकर के पद पर निर्वाचन के लिए लाए गए प्रस्ताव को सत्ता पक्ष और विपक्ष के सदस्यों ने ध्वनि मत से पारित कर दिया.

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता लाल कृष्ण आडवाणी मीरा कुमार को स्पीकर की कुर्सी तक छोड़ कर आए.

उन्हें कुछ दिन पहले ही मनमोहन सिंह सरकार में कैबिनेट मंत्री बनाया गया था लेकिन स्पीकर पद की पेशकश के बाद उन्होंने मंत्री पद से रविवार को इस्तीफ़ा दे दिया था.

मीरा कुमार का चयन सर्वसम्मति से हुआ है. उनके लिए दाखिल किए गए नामांकन पर्चों पर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से लेकर लाल कृष्ण आडवाणी, शरद पवार समेत कई नेताओं ने हस्ताक्षर किए थे.

स्पीकर पद के लिए नामांकन भरने की समयसीमा समाप्त होने तक केवल मीरा कुमार ने ही पर्चे दाखिल किए थे.

राजनीति में प्रवेश

मीरा कुमार का करियर
70 के दशक में आईएफ़एस में प्रवेश
विभिन्न पदों पर कई देशों में काम
80 के दशक में राजनीति में प्रवेश
1985 में बनी सांसद

मीरा कुमार ने 70 के दशक में भारतीय विदेश सेवा में नौकरी की और कई देशों में नियुक्त रहीं.

वे भारत-मॉरिशस संयुक्त आयोग की सदस्य भी रह चुकी हैं और ब्रिटेन में भारतीय उच्चायोग में भी काम कर चुकी हैं.

राजनीति में उनका प्रवेश 80 के दशक में हुआ. 1985 में वे पहली बार बिजनौर से संसद में चुन कर आईं.

1990 में वे कांग्रेस पार्टी की कार्यकारिणी समिति की सदस्य और अखिल भारतीय कांग्रेस समिति की महासचिव भी चुनी गईं.

1996 में वे दूसरी बार सांसद बनीं और तीसरी पारी उन्होंने 1998 में शुरु की. 2004 में बिहार के सासाराम से लोक सभा के लिए उनका चयन हुआ.

2004 में यूपीए सरकार में उन्हें सामाजिक न्याय मंत्रालय में मंत्री बनाया गया था. इस बार वे पाँचवीं बार संसद के लिए चुनी गई हैं.

मीरा कुमार ने स्पीकर पद के लिए चुने जाने को ऐतिहासिक घड़ी बताया है.

टीकाकारों का कहना है कि मीरा कुमार को लोक सभा का स्पीकर बनाने से कांग्रेस को फ़ायदा मिलेगा क्योंकि वो ख़ुद को महिला और दलित समर्थक के रूप में दिखा सकेगी.

 
 
इससे जुड़ी ख़बरें
इंटरनेट लिंक्स
बीबीसी बाहरी वेबसाइट की विषय सामग्री के लिए ज़िम्मेदार नहीं है.
सुर्ख़ियो में
 
 
मित्र को भेजें   कहानी छापें
 
  मौसम |हम कौन हैं | हमारा पता | गोपनीयता | मदद चाहिए
 
BBC Copyright Logo ^^ वापस ऊपर चलें
 
  पहला पन्ना | भारत और पड़ोस | खेल की दुनिया | मनोरंजन एक्सप्रेस | आपकी राय | कुछ और जानिए
 
  BBC News >> | BBC Sport >> | BBC Weather >> | BBC World Service >> | BBC Languages >>