अदालत में पुलिस पर सरेआम हमला

हमलावर
Image caption एक टूटे शीशे की बीच से नज़र आते हमलावर

पाकिस्तान के कराची शहर में दिन-दहाड़े एक अदालत परिसर में हथियारों से लैस हमलावरों ने पुलिस पर ग्रेनेड फेंके हैं और गोलियाँ चलाई हैं. इस घटना में एक पुलिसकर्मी और एक हमलावर मारा गया.

हमलावर चार क़ैदियों को, जो संदिग्ध चरमपंथी थे, आज़ाद कराने में सफल रहे और हमला करने के बाद अदालत परिसर से भाग निकले. क़ैदियों के ख़िलाफ़ अदालत में मुकदमा चल रहा था.

बीबीसी संवाददाता शोएब हसन का कहना है कि पुलिस के अनुसार ये जुंडुल्लाह सुन्नी चरमपंथी संगठन के चरमपंथी थे. पुलिस का आरोप है कि ये कराची में वर्ष 2009 में एक शिया जुलूस पर हमला करने की योजना बना रहे थे.

ग्रेनेड चलाए, फिर गोलीबारी हुई

प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार शनिवार दोपहर को कम से कम छह हमलावर अदालत परिसर में दाख़िल हुए और उन्होंने इमारत के गेट के पास ग्रेनेड फेंके .

जैसे ही पुलिक गार्ड तितर-बितर हो गए, वैसे ही वे अपने कुछ सहयोगियों को आज़ाद कराने के लिए इमारत में दाख़िल हुए.

कुछ देर के लिए मुठभेड़ हुई और पुलिस और हमलावरों के बीच गोलियाँ चलीं जिनमें एक पुलिसकर्मी और एक हमलावर की मौत हो गई.

अन्य हमलावर क़ैदियों के साथ भागने में सफल रहे.

ग़ौरतलब है कि ये हमला तब हुआ है जब शिया नेताओं ने अपने समुदाय के ख़िलाफ़ हो रहे हमलों के विरोध में बुलाई एक रैली को रद्द कर दिया था.

पहली जून से अब तक बंदूकधारियों ने कम से कम 12 शियाओं की हत्या की है.

संबंधित समाचार