कैमरन ने ज़रदारी के बयान को ठुकराया

Image caption ज़रदारी ने कहा था कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय तालिबान के ख़िलाफ़ लड़ाई हार रहा है

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री डेविड कैमरन ने पाकिस्तान के राष्ट्रपति आसिफ़ अली ज़रदारी के उस आकलन को ठुकरा दिया है जिसमें उन्होंने कहा था कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय तालिबान से जंग हारता जा रहा है.

डेविड कैमरन ने कहा कि ब्रिटेन के सैनिक अफ़ग़ानिस्तान के हेलमंद प्रांत में लोगों की तालिबान से रक्षा कर रहे हैं.

उल्लेखनीय है कि राष्ट्रपति ज़रदारी ब्रिटेन दौरे पर हैं और शुक्रवार को उनकी मुलाक़ात प्रधानमंत्री कैमरन से होनी है.

ब्रिटेन यात्रा से पहले राष्ट्रपति आसिफ़ अली ज़रदारी ने एक इंटरव्यू में कहा कि अफ़ग़ानिस्तान में दिल और दिमाग़ पर जीत के लिए जो लड़ाई थी, उसमें हार मिली है.

ज़रदारी ने कहा, "मेरा मानना है कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय, जिसका एक अंग पाकिस्तान भी है, तालिबान के ख़िलाफ़ लड़ाई हार रहा है."

राष्ट्रपति ज़रदारी ने कहा, "आतंकवाद से लड़ने के प्रति हमारी प्रतिबद्धता पर कुछ लोग संदेह कर रहे हैं जो दुखद है. इससे आतंकवाद से लड़ने के अंतरराष्ट्रीय प्रयास कमजोर ही होंगे."

विवाद

Image caption कैमरन के पाकिस्तान में संबंध में भारत में दिए बयान से नाराज़गी है

ग़ौरतलब है कि हाल में ब्रितानी प्रधानमंत्री के भारत में पाकिस्तान के संबंध में दिए बयान के बाद दोनों देशों के रिश्ते तल्ख़ हुए हैं.

कैमरन ने अपने भारत दौरे के दौरान कहा था,''हम ये कभी नहीं बर्दाश्त करेंगे कि पाकिस्तान दोमुंही बात करे और भारत, अफ़गानिस्तान या दुनिया के किसी हिस्से में आतंकवाद को बढ़ावा दे.''

कैमरन ने ये बयान भारत में दिया इससे और ज़्यादा नाराज़गी फैली.

बयान के विरोध में पाकिस्तानी ख़ुफ़िया अधिकारियों ने अपना ब्रिटेन दौरा रद्द कर दिया और पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने इस्लामाबाद स्थित ब्रिटेन के उच्चायुक्त को तलब किया और अपना विरोध जताया.

साथ ही पाकिस्तान के प्रधानमंत्री यूसुफ़ रज़ा गिलानी ने भी एक सार्वजनिक बयान में नाराज़गी जताते हुए कहा था कि कैमरन को ऐसे मामले कूटनीतिक मंच के ज़रिए उठाने चाहिए.

संबंधित समाचार