पाक: बाढ़ के इलाक़े में रेड अलर्ट

बाढ़

लगातार हो रही बारिश और बाढ़ की वजह से सिंध प्रांत में पानी दक्षिणी हिस्से की तरफ़ बढ़ रहा है.

अधिकारियों का कहना है कि सिंध नदी के तटबंध और गुदू बराज के टूटने की आशंका के बीच तीन से चार लाख लोगों पर ख़तरा मंडरा रहा है.

इसकी वजह से इस इलाक़े में अधिकारियों को रेड अलर्ट पर रखा गया है.

इस बीच भारी बारिश की वजह से राहत और बचाव कार्य में लगे कई हेलीकॉप्टरों की उड़ानें रद्द कर देनी पड़ी हैं.

प्रधानमंत्री यूसुफ़ रज़ा गिलानी और संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान की मून के विशेष दूत को इस इलाक़े का हवाई दौरा रद्द करना पड़ा है.

इस भीषण बाढ़ की वजह से पाकिस्तान के विभिन्न इलाक़ों में कम से कम 16 सौ लोगों की मौत हुई है और कोई एक करोड़ 40 लाख लोग प्रभावित हुए हैं.

राहत-बचाव कार्य बाधित

ख़ैबर पख़्तूनख़्वाह और पंजाब के बाद अब सिंध में चिंताजनक स्थिति दिखाई दे रही है.

वहाँ सिंध नदी के तटबंध के अलावा गुदू बैराज के टूटने का ख़तरा बना हुआ है. इस बांध के टूटने से बड़ी संख्या में लोगों को विस्थापित होना पड़ सकता है.

बीबीसी संवाददाता ओरला ग्यूरिन का कहना है कि जिस इलाक़े में गुदू बैराज स्थित है, अगर वहां बाढ़ का पानी घुस जाता है, तो कंडखोट और काश्मोर नाम के क़स्बे बह जाएंगे.

ग्यूरिन के मुताबिक बाढ़ का ख़तरा पाकिस्तान की सबसे बड़ी गैस फ़ील्ड परियोजना क़ादिरपुर पर भी मंडरा रहा है.

प्रांत के एक अधिकारी अदनान अहमद ने समाचार एजेंसी एएफ़पी को बताया, "स्वात के इलाक़े में हालात बहुत ख़राब हैं और नदी में पानी के स्तर के बढ़ने के बाद हमने निचले इलाक़ों में रह रहे लोगों से अपील की है कि वे अपना घर छोड़कर ऊँचे स्थानों की ओर चले जाएँ."

अधिकारियों का कहना है कि सैकड़ों गांवों में बाढ़ का पानी घुसने के बाद सिंधु नदी के आस-पास के इलाक़े से पांच लाख से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थानों पर भेजा गया है.

लोगों को स्कूल बिल्डिंगों और टेंटों में ठहराया गया है. प्रांत के सिंचाई मंत्री जाम सैफ़ुल्लाह के अनुसार कई लोग अपना घर छोड़कर जाने को तैयार नहीं हो रहे हैं.

एएफ़पी के अनुसार ख़ैबर पख़्तूनख़्वाह प्रांत में लगातार हो रही बारिश की वजह से बचाव और राहत कार्य भी बुरी तरह से प्रभावित हुआ है.

बचाव कार्य में लगे कई हेलीकॉप्टरों की उड़ानें रद्द कर देनी पड़ी हैं.

पाकिस्तान के मौसम विभाग ने चेतावनी दी है कि आने वाले दो दिनों में सिंध प्रांत में अभी और बारिश हो सकती है.

संबंधित समाचार