नेटो की ट्रकों के लिए रास्ते अभी भी बंद

नेटो
Image caption नेटो सेना साल 2001 से अफ़गानिस्तान में मौजूद हैं

पाकिस्तान ने कहा है कि अफग़ानिस्तान में मौजूद अंतरराष्ट्रीय सेनाओं के लिए तेल और दूसरे सामानों की आपूर्ति के लिए रास्ता खोलने पर अभी तक फैसला नहीं लिया गया है.

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अब्दुल बासित ने गुरुवार को पत्रकारों को बताया कि प्रशासन ने अफग़ानिस्तान स्थित नेटो सेना को तेल और दूसरे सामान पहुँचाने वाले टैंकरों और ट्रकों को अभी तक वहाँ जाने की अनुमति नहीं दी है और पाकिस्तानी अधिकारी हालात का आकलन कर रहे हैं.

उन्होंने कहा इस मामले पर जल्द ही फैसला लिया जाएगा.

उनके अनुसार पाकिस्तान की सीमा में नेटो सेना की कार्रवाई की जाँच पूरी हो चुकी है और उस पर अमेरिका और नेटो ने माफी भी मांग ली है.

उन्होंने पाकिस्तानी इलाक़ों में नेटो सेना की कार्रवाई पर हुई जाँच की विस्तृत जानकारी नहीं दी.

नेटो की कार्रवाई

ग़ौरतलब है कि अफग़ानिस्तान में मौजूद अंतरराष्ट्रीय सेना के हेलीकॉप्टरों ने 30 सितंबर को पाकिस्तान के क़बायली इलाक़ों में कार्रवाई की थी जिस में तीन सुरक्षाकर्मी मारे गए थे और तीन अन्य घायल हो गए थे.

पाकिस्तान सरकार ने इस पर तीखी प्रतिक्रिया दी थी और अफग़ानिस्तान में मौजूद नेटो सेना के लिए तेल और दूसरे सामानों की आपूर्ति पर रोक लगा दी थी.

सरकार ने बाद में स्पष्ट किया था कि ऐसा फैसला सुरक्षा कारणों से लिया गया था.

पाकिस्तान में क़बायली इलाक़ों में हो रहे अमरीकी ड्रोन हमलों पर पूछे गए एक सवाल पर विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने बताया कि ड्रोन हमलों को लेकर पाकिस्तान का अमेरिका के साथ कोई समझौता नहीं है और पाकिस्तान ने अमेरिका को अपनी चिंता से कई बार अवगत कराया है.

अब्दुल बासित के मुताबिक क़बायली इलाक़ों में अमरीकी ड्रोन हमलों पर पाकिस्तान और अमेरिका के बीच मतभेद हैं और इन मतभेदों को ख़त्म करने केलिए बातचीत हो रही है.

कार्रवाई प्रभावित

उन्होंने कहा कि ड्रोन हमले आतंकवाद के ख़िलाफ युद्ध को नुक़सान पहुँचा रहे हैं और इन हमलों से पाकिस्तान की कोशिशें भी प्रभावित हो रही हैं.

इस बीच नेटो ने कहा है कि पाकिस्तान से आनेवाली सप्लाई में रूकावट से युद्ध प्रभावित नहीं हुआ है.

नेटो ने कहा है कि वो उम्मीद करता है कि इस मामले का हल जल्दी ही हो जाएगा.

संबंधित समाचार