अमरीकी अधिकारी अदालत में पेश

लाहौर गोलीबारी इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption शुक्रवार को डेविस को लाहौर की एक निचली अदालत में पेश किया.

पाकिस्तान में अमरीकी दूतावास के एक कर्मचारी को पाकिस्तानी नागरिकों की हत्या के आरोप में स्थानीय अदालत में पेश किया गया.

अमरीकी नागरिक रेमॉंड डेविस ने गुरुवार को लाहौर की एक भीड़ भरी सड़क पर दो पाकिस्तानी लोगों को गोली मार दी थी.

पुलिस ने घटना के तुरंत बाद उन्हें हिरासत में ले लिया था और उनके ख़िलाफ़ मुक़दमा दर्ज कर लिया था. पुलिस ने शुक्रवार को उन्हें लाहौर की एक निचली अदालत में पेश किया.

अभियुक्त रेमॉंड डेविस के वकील राणा बख़्तियार ने अदालत को बताया कि उनके मुव्किल ने आत्मरक्षा में गोली चलाई और वह लोग उनकी कार छीनने की कोशिश कर रहे थे.

रेमॉंड डेविस ने अदालत में अपना बयान दिया कि उन्होंने जान बूझ कर उन लोगों की हत्या नहीं की और उन की जान को ख़तरा है कि इसलिए उन्हें सुरक्षा प्रदान की जाए.

अदालत ने अमरीकी नागरिक रेमॉंड डेविस को छह दिनों के रिमांड पर पुलिस के हवाले कर दिया. अगली सुनवाई तीन फ़रवरी को होगी.

दूसरी ओर पंजाब के क़ानून मंत्री राणा सनाऊल्लाह ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि अभियुक्त के ख़िलाफ़ कार्रवाई पाकिस्तानी क़ानून के मुताबिक होगी और इस संबंध में किसी भी प्रकार का विदेशी दबाव स्वीकार नहीं किया जाएगा.

उन्होंने बताया कि अभियुक्त से जो हत्थियार बरामद हुआ उस का उनके पास लाईसेंस नहीं था और इसके ख़िलाफ़ मुक़दमा दर्ज कर लिया गया है.

गोलीबारी की घटना

ग़ौरतलब है कि लाहौर में गुरुवार को अमरीकी वाणिज्य दूतावास में काम करने वाले रेमॉंड डेविस शहर की भीड़ वाली सड़क पर दो पाकिस्तानी लोगों को गोली मार दी थी. वह दोनों व्यक्ति मोटरसाइकिल पर सवार थे.

पुलिस का कहना है कि इस अमरीकी दूतावास के कर्मचारी ने अपनी पिस्तौल से गोलियाँ चलाईं थीं.

पुलिस का कहना था कि गोलीबारी की घटना के तुरंत बाद इस अधिकारी ने रेडियो संदेश भेजकर अपने एक सहयोगी को ख़बर दी और इसके बाद दूतावास से एक गाड़ी उनकी सहायता के लिए निकल पड़ी.

वॉशिंगटन में अमरीकी विदेश विभाग के प्रवक्ता पीजे क्राउली ने कहा था कि अमरीका यह सुनिश्चित करने की कोशिश करेगा कि इस घटना से दोनों देशों के संबंधों पर कोई असर न हो.

संबंधित समाचार