त्रिपक्षीय बातचीत स्थगित

पाकिस्तान और अफ़ग़ानिस्तान का झंडा
Image caption अमरीका, पाकिस्तान और अफ़ग़ानिस्तान के बीच बैठक होने वाली थी

अमरीका के विदेश मंत्रालय का कहना है कि अमरीका, अफ़ग़ानिस्तान और पाकिस्तान के वरिष्ठ अधिकारियों की वॉशिंगटन में होने वाली उच्चस्तरीय बैठक स्थागित कर दी गई है.

अमरीकी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता पीजे क्राउली ने एक बयान जारी कर कहा, "पाकिस्तान में राजनीतिक बदलावों को देखते हुए तीनों देशों की बैठक स्थागित करने का फ़ैसला किया गया है और इसमें अफ़ग़ानिस्तान और पाकिस्तान के अधिकारियों की मर्ज़ी शामिल है."

पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने इस प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि लाहौर में गिरफ़्तार अमरीकी अधिकारी रेमंड डेविस के मामले पर दोनों देशों के बीच तनाव से अमरीका, अफ़ग़ानिस्तान और पाकिस्तान की बैठक नहीं रुकेगी.

उन्होंने उम्मीद जताई कि तीनों देशों की महत्वपूर्ण बैठक जल्द वॉशिंगटन में होगी.

पुष्टि

इससे पहले शनिवार को पाकिस्तान के विदेश सचिव सलमान बशीर ने भी पुष्टि की थी कि इस महीने वॉशिंगटन में अफ़ग़ानिस्तान की स्थिति पर हो रही बैठक स्थागित कर दी गई है.

कुछ दिन पहले अमरीकी समाचार पत्रों ने दावा किया था कि दो पाकिस्तानी नागरिकों की हत्या के आरोप में गिरफ़्तार अमरीकी अधिकारी रेमंड डेविस को रिहा न करने के कारण अमरीका ने पाकिस्तान से उच्चस्तरीय संपर्क न करने का फ़ैसला लिया है.

पाकिस्तान के विदेश सचिव सलमान बशीर ने पत्रकारों से कहा, “रेमंड डेविस के मामले को वॉशिंगटन में हो रही बैठक के स्थगित होने से न जोड़ा जाए.” यह बैठक 23 से 25 फ़रवरी को होने वाली थी.

रेमंड डेविस पर बात करते हुए उन्होंने कहा कि एक व्यक्ति के मुद्दे पर पाकिस्तान और अमरिका के 60 सालों के संबंध ख़राब नहीं होने चाहिए.

मामला

अमरीकी नागरिक रेमंड डेविस पर आरोप है कि उन्होंने 27 जनवरी को लाहौर की एक भीड़ भरी सड़क पर दो पाकिस्तानी लोगों को गोली मार दी थी.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption रेमंड डेविस अभी हिरासत में हैं

पुलिस ने घटना के तुरंत बाद उन्हें हिरासत में ले लिया था और उनके ख़िलाफ़ मुक़दमा दर्ज कर लिया था. पुलिस ने 28 जनवरी को उन्हें लाहौर की एक निचली अदालत में पेश किया था.

रेमंड डेविस ने अदालत में अपना बयान दिया था कि उन्होंने जान बूझ कर उन लोगों की हत्या नहीं की और उन की जान को ख़तरा है. इसलिए उन्हें सुरक्षा प्रदान की जाए.

घटना के कुछ दिनों बाद अमरिका ने कहा था कि पाकिस्तान ने ग़ैर-क़ानूनी तौर पर उसके अधिकारी को हिरासत में रखा है जो अंतरराष्ट्रीय नियमों का भी उल्लंघन है.

कुछ दिन पहले वाशिंगटन में पाकिस्तान के राजदूत हुसैन हक़्क़ानी ने कहा था कि अमरीकी नागरिक रेमंड डेविस के मामले को लेकर पाकिस्तान और अमरीका के बीच तनाव महसूस किया जा रहा है. लेकिन उन्होंने इस तनाव के लिए अमरीका को ज़िम्मेदार ठहराया था.

संबंधित समाचार