वेटिकन,मुशर्रफ़ ने निंदा की

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

पाकिस्तान के अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री शहबाज़ भट्टी की हत्या की व्यापक निंदा हुई है. उन पर इस्लामाबाद में दिनदहाड़े गोलियाँ चलाई गईं जिसके बाद उनकी मौत हो गई. उनकी हत्या पर कुछ मुख्य प्रतिक्रयाएँ

यूसुफ़ रज़ा गिलानी- पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने एक संदेश में कहा है कि शहबाज़ भट्टी की हत्या के लिए दोषी लोगों को किसी क़ीमत पर बख़्शा नहीं जाएगा. गिलानी ने कहा, “शहबाज़ भट्टी की मौत देश के लिए बड़ी क्षति है, ख़ासकर तब जब पाकिस्तान में विभिन्न धर्मों के बीच खाई पाटने और सदभावना बनाने की कोशिश चल रही है.” उन्होंने आंतरिक मामलों के मंत्रालय को मामले की पूरी जाँच करने के निर्देश दिए हैं

आसिफ़ अली ज़रदारी- पाकिस्तान के राष्ट्रपति ने अपने संदेश में कहा है कि सरकार अपने रुख़ पर डटी रहेगी और कट्टरपंथियों के आगे झुकेगी नहीं. उन्होंने कहा कि कट्टरपंथी पाकिस्तान में स्थायित्व बिगाड़ना चाहते हैं जिसे सफल नहीं होने दिया जाएगा.

परवेज़ मुशर्रफ़- पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज़ मुशर्रफ़ ने अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री शहबाज़ भट्टी की हत्या की निंदा की है. उन्होंने एक बयान में कहा कि इस हत्या से पूरे विश्व में पाकिस्तान की छवि को धक्का पहुंचा है. उन्होंने अल्पसंख्यक समुदाय के साथ सहानुभूति जताई है.

वेटिकन- कैथलिक पाकिस्तानी मंत्री की हत्या पर वेटिकन ने कहा है कि पाकिस्तान में ईसाइयों को तंग किया जाना बंद होना चाहिए. प्रवक्ता फ़ेडरिको लौंमबार्डी ने कहा कि ये हमला एक ऐसी हिंसात्मक कार्रवाई है जिसके गंभीर परिणाम हैं. उन्होंने पाकिस्तान में धार्मिक आज़ादी की रक्षा करने की बात कही है.

सलमान तासीर की बेटी- हाल ही में मारे गए पाकिस्तान के पूर्व मंत्री सलमान तासीर की बेटी सेहरबानो ने ट्विटर पर लिखा है कि शहबाज़ भट्टी एक नेक इंसान थे जिन्होंने अल्पसंख्यकों की सुरक्षा के लिए काम किया. उन्होंने कहा कि ये पाकिस्तान के लिए दुखदायी दिन है और देश ने एक और दिलेर व्यक्ति खो दिया है.

संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तानी दूत- अब्दुल्ला हारून ने कहा है कि शहबाज़ भट्टी न सिर्फ़ ईसाई समुदाय बल्कि अन्य समुदायों में भी बेहद लोकप्रिय नेता थे. हमें उनकी सोच का समर्थन करना चाहिए.

संचार मंत्री, पाकिस्तान- पाकिस्तान में संचार मंत्री डॉक्टर आलमगीर खान ने शहबाज़ भट्टी की हत्या को एक जघन्य अपराध बताया है और कहा है कि सरकार कट्टरपंथियों के सामने नहीं झुकेगी.

अकरम मसीह गिल- नेशनल एसेंबली की सदस्य अकरम मसीह गिल ने अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री की हत्या की कड़े शब्दों में निंदा की है. अस्पताल के बाहर पत्रकारों से बात करते हुए उन्होंने कहा कि इससे पाकिस्तान का नाम बदनाम होगा और ये दर्शाता है कि अल्पसंख्यक यहाँ सुरक्षित नहीं हैं और न ही यहाँ सहिष्णुता की संस्कृति है.

जमात-ए-इस्लामी- रॉयटर्स के मुताबिक जमात-ए-इस्लामी के वरिष्ठ नेता फ़रीद पराचा ने शहबाज़ भट्टी की हत्या की निंदा की है. उन्होंने कहा है कि ये रेमंड डेविस मामले से ध्यान हटाने की साज़िश हो सकती है.

दक्षिण एशियाई अल्पसंख्यक परिषद- शहबाज़ भट्टी की जघन्य हत्या एक कायराना हरकत है. ये पाकिस्तान के रिकॉर्ड पर एक धब्बा है और दिखाता है कि पाकिस्तान ने अपने नागरिकों की रक्षा नहीं की है.

संबंधित समाचार