कराची: 'राजनीतिक हिंसा में 50 मारे गए'

कराची इमेज कॉपीरइट AP
Image caption पुलिस और मानवाधिकार संगठन राजनीतिक हिंसा के हुई मौतों के आंकड़ों पर सहमत नहीं हैं

मानवाधिकार संगठनों के अनुसार पाकिस्तान के कराची शहर में पिछले 15 दिनों में हुई राजनीतिक हिंसा में कम से कम 50 लोग मारे गए हैं.

मारे गए अधिकतर लोग पश्तून हैं. पुलिस मानवाधिकार संगठनों के आंकड़े से सहमत नहीं है.

ये हिंसा 12 मार्च से शुरु हुई थी जब पाकिस्तान में सत्ताधारी पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी से जुड़े एक राजनीतिक गुट के दफ़्तरों पर हमले हुए थे.

इसके बाद कराची के विभिन्न हिस्सों में लोगों को सांप्रदायिक या फिर क्षेत्रीय आधार पर निशाना बनाया गया है.

एमक्यूएम पर आरोप

उत्तर-पश्चिमी पाकिस्तान में संघर्ष के भागकर जब से हज़ारों पश्तून लोगों ने कराची में आना शुरु किया है, तभी से वहाँ सांप्रदायिक तनाव बढ़ गया है.

कुछ पश्तून नेताओं ने शक्तिशाली क्षेत्रीय पार्टी मोहाजिर कॉमी मूवमेंट (एमक्यूएम) पर इस हिंसा का आरोप लगाया है लेकिन एमक्यूएम ने इससे इनकार किया है.

कराची के पुलिस प्रमुख सऊद मिर्ज़ा ने बीबीसी को बताया, "हमारे पास जो आंकड़े हैं, उनके मुताबिक 12 मार्च से हिंसक वारदातों में 109 लोग मारे गए हैं. इनमें से 34 लोग राजनीति से प्रेरित हिंसा के शिकार हुए हैं."

लेकिन मानवाधिकार कार्यकर्ता और पत्रकार पुलिस के बयान से सहमत नहीं हैं.

उनका कहना है कि पुलिस केवल राजनीतिक कार्यकर्ताओं की गिनती करती है लेकिन कई अन्य को उनकी क्षेत्रीयता या सांप्रदायिक आधार पर निशाना बनाया जाता है.

संबंधित समाचार