फ़जलुर रहमान पर फिर हमला

मौलाना फजलुर्र रहमान इमेज कॉपीरइट AP
Image caption मौलाना फज़लुर्र रहमान कट्टर पंथी गुटों के नज़दीकी माने जाते हैं

पाकिस्तान के जमीअत उलेमा ऐ इस्लाम (एफ़)के नेता मौलाना फ़ज़लुर रहमान के काफ़िले के ऊपर हुए एक बम धमाके में कम से कम दस लोग मारे गए हैं और 20 के क़रीब घायल हुए हैं.

मौलाना फ़ज़लुर रहमान पर दो दिन में यह दूसरा क़ातिलाना हमला है.

ख़ैबर पख़्तूनख़्वाह के ज़िला चार सद्दा के जनसंपर्क अधिकारी अजमल खान के मुताबिक बृहस्पतिवार का हमला सुबह डीसीओ दफ़्तर के सामने हुआ. खान के मुताबिक मौलाना एक राजनितिक कार्यक्रम में भाग लेने के लिए जा रहे थे तभी उनके काफ़िले पर ये हमला हुआ.

उनके काफ़िले में शामिल पुलिस की गाड़ी इस हमले का निशाना बनी. ख़बर के मुताबिक मौलाना इस हमले में बिना किसी बड़ी चोट के बच गए हैं और इस धमाके मे महज़ उनकी गाड़ी के शीशे ही फूटे हैं.

इसके पहले बुधवार को मौलाना रहमान जो कि एक कट्टरपंथी नेता माने जाते हैं उन पर एक आत्मघाती हमला हुआ था. चार सद्दा पुलिस के आला अफसर निसार मुरव्वत ने बीबीसी को बताया है कि बृहस्पतिवार को मरने वालों में ज़्यादातर पुलिस कर्मचारी हैं.

मौलाना रहमान ने हादसे के बाद मीडिया से बात करते हुए बताया कि हमले के वक़्त उनकी गाड़ी पुलिस की गाड़ी से महज़ चंद क़दमों की दूरी पर थी. मौलाना ने बातचीत में इस हमले के पीछे अपना किसी पर शक ज़ाहिर नहीं किया उनका कहना था कि वो खुद नहीं समझ पा रहे हैं कि कौन उनकी जान लेना चाहता है.

हमले के चश्मदीद गवाहों का कहना है कि धमाका इतना शक्तिशाली था कि आस पास की दुकानों और मकानों को भी नुक़सान पहुंचा है. इस बम हमले में पुलिस की गाड़ी पूरी तरह से नष्ट हो गई है. हमले में ज़ख़्मी लोगों को चार सद्दा और पेशावर के अस्पतालों में भर्ती कराया गया है.

बुधवार को इसी प्रांत के ज़िले सवाबी में मौलाना के एक स्वागत जूलूस पर हमला हुआ था जिसमे सात लोग मारे गए थे.

अभी तक किसी भी संगठन ने इन दोनों हमलों की ज़िम्मेदारी क़ुबूल नहीं की है.

संबंधित समाचार