पाकिस्तान की सफलता ब्रिटेन के हक़ में:कैमरन

डेविड कैमरन इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption डेविड कैमरन ने विश्वविधालय में छात्रों से भी मुलाक़ात की.

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री डेविड कैमरन ने कहा है कि पाकिस्तान की कामयाबी ब्रिटेन के हक़ में है.

मंगलवार को पाकिस्तान के एक दिन के दौरे पर गए डेविड कैमरन ने अपने पाकिस्तानी समकक्ष युसूफ़ रज़ा गिलानी के साथ संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में कहा कि चरमपंथ दोनों देशों के लिए एक समस्या है.

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान की मदद इसलिए भी ज़रूरी है क्योंकि अगर पाकिस्तान असफल होता है तो ब्रिटेन के लिए भी चरमपंथ की समस्या बढ़ सकती है.

उन्होंने कहा कि दोनों देशों के बीच पुलिस और ख़ुफ़िया एजेंसियों के बीच जानकारियों के आदान प्रदान, व्यापार की बढ़ोतरी और शिक्षा के क्षेत्र में सहयोग बढ़ाने पर बातचीत हुई.

पाकिस्तानी प्रधानमंत्री युसूफ़ रज़ा गिलानी ने कहा कि ब्रिटेन के लिए पाकिस्तान में निवेश करने के बहुत बेहतरीन अवसर मौजूद हैं.

प्रेस कॉंफ़्रेंस के दौरान जब डेविड कैमरन से ये पूछा गया कि पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज़ मुशर्रफ़ को ब्रिटेन पाकिस्तान के हवाले क्यों नहीं कर रहा जबकि मुशर्रफ़ पाकिस्तान में चल रहे एक मुक़दमें में वांछित हैं इस पर कैमरन ने कहा कि दोनों देशों के बीच प्रत्यार्पण संधि नहीं है और अगर कोई अदालती दस्तावेज़ उनके सामने लाया जाता है तो वो इस पर विचार करेंगे.

Image caption कुछ लोगों ने कैमरन के दौरे का विरोध भी किया.

पिछले साल जुलाई में अपने भारत दौरे के दौरान डेविड कैमरन ने पाकिस्तान के बारे में एक बयान दे दिया था जिसके बाद दोनों देशों के राजनयिक रिश्तों में काफ़ी तनाव पैदा हो गए थे.

कैमरन ने उस वक़्त कहा था कि आतंकवाद के मुद्दे पर पाकिस्तान की दोहरी नीति को बर्दाश्त नहीं किया जा सकता.

कैमरन की पाकिस्तान यात्रा से सिर्फ़ एक दिन पहले पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय की ओर से जारी एक बयान में कहा गया है कि पाकिस्तान डेविड कैमरन के दौरे और ब्रिटेन के साथ क़रीबी रिश्ते को बहुत अहमियत देता है.

उम्मीद है कि इसी साल अमरीकी राष्ट्रपति बराका ओबामा भी पाकिस्तान का दौरा करेंगे.

संबंधित समाचार