ओसामा का पता न मिलने की जाँच होगी

ओसामा इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption कुछ दिन पहले ओसामा को ऐबटाबाद में मार दिया गया था.

पाकिस्तानी सेना का कहना है कि ऐबटाबाद में अल क़ायदा के प्रमुख ओसामा बिन लादेन की मौजूदगी की जानकारी न होने पर जाँच के आदेश दिए गए हैं.

एक वरिष्ठ सैन्य अधिकारी ने बताया कि इस मामले में ख़ुफ़िया एजेंसी आईएसआई के भीतर और बाहर जाँच की जाएगी.

सैन्य अधिकारी ने कहा, “ओसामा बिन लादेन की पत्नी से हुई पूछताछ के बाद पता चला है कि वे पिछले पाँच सालों से ऐबटाबाद में रह रहे थे और किसी को कोई जानकारी नहीं थी.”

इससे पहले प्रधानमंत्री यूसुफ़ रज़ा गिलानी ने फ्रांस में पत्रकारों से कहा था कि ओसामा बिन लादेन का पता लगाने में नाकामी के लिए सिर्फ़ पाकिस्तानी ख़ुफ़िया एजेंसी आईएसआई की नहीं बल्कि इसके लिए पूरी दुनिया की ख़ुफ़िया बिरादरी ज़िम्मेदार है जिसमें अमरीकी भी शामिल है.

उन्होंने कहा था कि ओसामा बिन लादेन की जानकारी न मिल पाने की पाकिस्तान में जाँच की जाएगी.

'अभियान की जानकारी नहीं थी'

सैन्य अधिकारी ने बताया कि ऐबटाबाद में ओसामा बिन लादेन के निवास पर अमरीकी सैन्य कार्रवाई की जानकारी पाकिस्तानी सेना को नहीं थी.

उन्होंने कहा कि अमरीका को इस अभियान के बारे में पाकिस्तानी अधिकारियों को सूचना देनी चाहिए थी.

उनका कहना है कि सहयोग दोनों ओर से ज़रुरी है जैसा कि पाकिस्तान ने मुल्ला बिरादर के मामले में अमरीका से किया था.

उन्होंने कहा कि इस अभियान से सिलसिले में पाकिस्तान ने कुछ गुप्त जानकारी अमरीका को दी थी और कुछ अरबी भाषा बोलने वाले व्यक्तियों के टेलीफ़ोन भी इस इलाक़े में ट्रेस किए गए थे.

'पांच साल से एक कमरे बंद'

अधिकारी के अनुसार वित्तीय मामलों को लेकर अल क़ायदा के बीच मतभेद हो गए थे और ऐमन अल ज़वाहिरी ने ओसामा बिन लादेन को एक तरफ़ कर दिया था.

उन्होंने बताया कि ओसामा बिन लादेन की पत्नी के मुताबिक़ वे पांच सालों के बाद उस कमरे से बाहर निकलीं और ओसामा भी पिछले पांच सालों से एक कमरे में ही बंद थे.

उन्होंने कहा कि ओसामा बिन लादेन की पत्नियों को हिरासत में लिया गया है जिन के साथ 13 बच्चे हैं लेकिन ये पता नहीं है कि उसमें से कितने ओसामा के हैं.

ओसामा की एक पत्नी यमन से हैं, जो सैन्य कार्रवाई के वक़्त उनके साथ थीं और जिन्हें कमांडो ने पैर में गोली मारी थी.

अधिकारियों ने उनसे हुई पूछताछ के आधार पर बताया कि उन्हें गोली लगने और उन के बेहोश होने तक ओसामा ज़िंदा थे लेकिन ओसामा की एक बेटी ने बताया कि उन के पिता को उन की आँखों के सामने मारा गया.

ग़ौरतलब है कि ओसामा बिन लादेन को एक और दो मई की दरम्यानी रात एक सैन्य कार्रवाई में अमरीकी सैनिकों ने ऐबटाबाद में मार दिया था.

संबंधित समाचार