'हेलिकॉप्टर से कमांडो को उतरते देखा'

ओसामा इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption अमरीकी सेना ने ऐबटाबाद के घर पर कार्रवाई कर ओसामा को मार दिया था.

पाकिस्तान के शहर ऐबटाबाद में ओसामा बिन लादेन के ख़िलाफ़ हुई अमरीकी कार्रवाई चर्चा का विषय बनी हुई है.

ऐबटाबाद में अमरीकी अभियान को क़रीब से देखने वाले एक पुलिस अधिकारी ने बताया, “यूं लगता है कि पाकिस्तान की सेना को शुरुआत में इस कार्रवाई के बारे में कुछ भी जानकारी नहीं थी.”

पुलिस अधिकारी ने नाम ना बताने की शर्त पर बताया कि रविवार की रात उन्हें करीब साढ़े 12 बजे और एक बजे के बीच इलाक़े के लोगों के टेलीफ़ोन आने शुरु हो गए कि धमाके हो रहे हैं और एक हेलिकॉप्टर गिरा है.

उन्होंने बीबीसी को बताया कि पहले तो स्थिति स्पष्ट नहीं थी कि ये धमाके कहां हुए और उसके बाद वे ख़ुद बिलाल टाउन की ओर गए.

पुलिस अधिकारी ने बताया, “मैं जब उस घर के करीब पहुँचा तो मैंने धमाके की आवाज़ सुनी और हेलिकॉप्टर से कमाँडो उतरते देखे.”

पुलिस अधिकारी ने बताया कि उसके कुछ समय बाद एक ओर धमाका हुआ और हेलीकॉप्टर वापस जाते हुए दिखे और पुलिस घर की आगे बढ़ी. उनके अनुसार उस समय सेना भी पहुँच गई थी.

उन्होंने बताया कि जब सैनिकों ने गिरे हुए हेलीकॉप्टर को देखा तो कहने लगे, “ये हेलिकॉप्टर हमारा नहीं है.”

उन्होंने कहा, “स्थिति को देख कर पाकिस्तानी सेना ने हमसे कहा कि आप बाहरी इलाक़े को घेर लें और सैनिक ने ख़ुद उस घर में प्रवेश किया जिस में कार्रवाई की गई थी.”

'सेना ने पुलिस को दूर रखा'

अधिकारी ने बताया कि अगली सुबह अमरीकी राष्ट्रपति के बयान के बाद ही स्थिति स्पष्ट हो गई कि बिलाल टाउन में अमरीकी सैनिकों ने ओसामा बिन लादेन को मार दिया गया है.

एक स्थानीय व्यक्ति ने बीबीसी को बताया कि उन्होंने भी तबाह हेलिकॉप्टर के बारे में पाकिस्तानी सेना को ये कहते हुए सुना कि हेलिकॉप्टर पाकिस्तानी सेना का नहीं है.

उन्होंने कहा कि उन्हें कोई अंदाज़ा ही नहीं था कि यहाँ क्या हो रहा है और अगली सुबह ख़बरों के माध्यम से पता चला की ओसामा बिन लादेन को मार दिया गया है.

बिलाल टाउन में अधिकतर लोग पुलिस अधिकारी के उस बयान की पुष्टि करते हैं कि हेलीकॉप्टरों के वापस जाने के 15 मिनट बाद सेना और पुलिस घटनास्थल पर पहुँची थी.

संबंधित समाचार