सैन्य अधिकारी की अमरीकी यात्रा स्थागित

शमीम वाईँ इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption जनरल शमीम वाईँ सेना के वरिष्ठ पद पर हैं.

पाकिस्तान के वरिष्ठ सैन्य अधिकारी जनरल ख़ालिद शमीम वाईं ने अल क़ायदा के प्रमुख ओसामा बिन लादेन की मौत के बाद अमरिका और पाकिस्तान के बीच बढ़ते तनाव को देखते हुए अपनी अमरीका यात्रा स्थागित कर दी है.

जनरल ख़ालिद शमीम वाईं पाकिस्तानी सेना में 'ज्वाईंट चीफ़्स ऑफ़ स्टाफ़' के अध्यक्ष पद हैं.

पाकिस्तानी सेना के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बीबीसी को बताया कि जनरल शमीम वाईं को 22 मई से 27 मई तक अमरीका की यात्रा पर जाना था जो अब स्थागित हो गया है.

आधिकारिक रुप से अभी तक इस यात्रा के स्थागित होने का कोई कारण नहीं बताया गया है लेकिन सैन्य अधिकारी का कहना है कि उन्होंने अपनी यात्रा के स्थागित होने की जानकारी अमरीकी अधिकारियों दे दी है.

जनरल ख़ालिद शमीम वाईं ने ऐसे समय में अपनी यात्रा स्थागित करने का निर्णय लिया है जब अमरीका के वरिष्ठ सांसद जॉन कैरी पाकिस्तान पहुँचने वाले हैं.

ग़ौरतलब है कि दो मई को ख़ैबर पख़्तूनख़्वाह के शहर ऐबटाबाद के एक घर पर हमला कर अमरीकी सैनिकों ने अल क़ायदा के प्रमुख ओसामा बिन लादेन को मार दिया था.

'ऐबटाबाद कार्रवाई का विरोध'

अमरीका ने आतंकवाद के ख़िलाफ़ चल रहे युद्ध में अपने महत्वपूर्ण सहयोगी पाकिस्तान को विश्वास में लिए बिना सैन्य अभियान किया था जिस पर पाकिस्तानी सरकार ने कड़ी आपत्ति जताई है.

अमरीका की इस एक तरफ़ा कार्रवाई पर पाकिस्तानी जनता अपनी सरकार और सेना का कड़ा विरोध कर रही है.

अमरीकी कार्रवाई के बाद पाकिस्तानी मीडिया में यह भी सवाल उठाए जा रहे हैं कि क्या अमरीका पाकिस्तान के परमाणु कार्यक्रम को इसी तरह निशाना बना सकता है?

यही कारण है कि प्रधानमंत्री यूसुफ़ रज़ा गिलानी ने संसद के भीतर और बाहर किए गए भाषणों और मीडिया को दिए इंटरव्यू में पाकिस्तान को विश्वास में लिए बिना अमरीकी कार्रवाई पर नाराज़गी जता चुके हैं.

जनकार मानते हैं कि जनरल वाईं की अमरीकी यात्रा स्थागित करने का निश्चित रुप से उद्देश्य अमरीका पर दबाव डालना है कि वह आतंकवाद के ख़िलाफ़ चली रही जंग में पाकिस्तान का सहयोग करे और ऐबटाबाद जैसी कार्रवाईयों से बाज़ आए.

संबंधित समाचार