कराची नौसेना ठिकाने पर गोलीबारी बंद

कराची हमला इमेज कॉपीरइट AFP

इस्लामाबाद से बीबीसी संवाददाता ने कहा है कि कराची के नौसेना अड्डे पर सेना और तालिबान चरमपंथियों के बीच कल रात से जारी संघर्ष ख़त्म हो गया है.

बीबीसी संवाददाता अलीम मक़बूल ने ये ख़बर पाकिस्तानी नौसेना के सूत्रों के हवाले से दी है.

अधिकारी ने कहा है कि सेना अब पूरे परिसर को सुरक्षित करने के अभियान में लगी है.

पाकिस्तान के गृह मंत्री रहमान मलिक ने कुछ घंटो पहले पत्रकारों के सवाल के जवाब में कहा था कि चरमपंथी नौसेना परिसर के अंदर मौजूद एक मकान में घुसे हुए हैं जिसे नौसेना के कमांडो ने चारों तरफ़ से घेर रखा है.

रविवार तक़रीबन दस से ग्यारह बजे के बीच शुरू हुआ ये हमला लगभग चौदह घंटो तक जारी रहा जिस दौरान बंदूकधारियों के हमले में नौसेना के दो लड़ाकू विमान बुरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गए.

हमले में 12 लोगों की मौत हो गई है. हमले के दौरान चरमपंथियों ने चीनी सेना के अधिकारियों समेत कुछ लोगों को बंदी भी बना लिया था.

पाकिस्तानी तालिबान ने हमले की ज़िम्मेदारी ली है और कहा है कि ये ओसामा बिन लादेन की मौत का बदला है.

ओसामा बिन लादेन की मौत मई के शुरू हफ़्ते में अमरीकी सैनिक कार्रवाई में हो गई थी. तालिबान ने कहा था कि वो उनकी 'शहादत' का बदला लेगा.

प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार आधुनिक हथियारों से लैस तक़रीबन दर्जन भर बंदूक़धारियों ने कराची के मेहरान हवाई अड्डे पर हमला कर दिया, पहले तो उन्होंने पास खड़े विमानों पर राकेट से दाग़े जानेवाले ग्रेनेड से हमला किया; और फ़िर वो वहाँ मौजूद सुरक्षाकर्मियों पर भारी गोलीबारी करते हुए ठिकाने के भीतर के हिस्से में घुस गए.

संबंधित समाचार