'नौ साल की आत्मघाती हमलावर'

सोहाना इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption सोहाना जावेद को अफ़ग़ान सीमा से हिरासत में लिया हया था.

पाकिस्तान के ख़ैबर पख़्तूनख़्वाह प्रांत में पुलिस ने एक नौ वर्षीय लड़की को हिरासत में लिया है जिसके बारे में बताया जा रहा है कि वह आत्मघाती हमलावर है और उसे सुरक्षाबलों पर हमले को एक साज़िश में शामिल किया गया था.

पुलिस के मुताबिक़ सोहाना जावेद को कुछ दिन पहले पेशावर से अग़वा किया गया था.

उन्हें अफ़ग़ानिस्तान की सीमा के पास के इलाक़े में हिरासत में लिया गया.

पुलिस ने सोहाना जावेद को मीडिया के सामने पेश किया और पत्रकारों को बताया कि उसने आत्मघाती जैकेट पहनी हुई थी और उससे कहा गया था कि सुरक्षाबलों के पास पहुँच कर वो अपने आप को बम से उड़ा ले.

सोहाना जावेद ने बताया कि उसे सुरक्षाबलों पर हमले करने भेजा गया था लेकिन उसने आत्मघाती जैकेट उतार फेंका और वहाँ से भागने में कामयाब हो गई.

ग़ौरतलब है कि पाकिस्तान में इस तरह की घटनाएँ बहुत कम हुई हैं जिसमें किसी लड़की या महिला को आत्मघाती हमलावर के तौर पर इस्तेमाल किया गया हो. चरमपंथी आमतौर पर आत्मतघाली हमलों के लिए कम उम्र के लड़कों को प्रशिक्षित करते हैं.

दूसरी ओर अधिकारियों ने बताया है कि उन्हें पेशावर से किसी लकड़ी के ग़ायब होने की कोई शिकायत नहीं मिली है और न ही इस नाम का कोई निवासी वहाँ रहता था.

'महिलाओं ने किया अग़वा'

सोहाना जावेद ने पत्रकारों को बताया कि उसका अपहरण दो महिलाओं ने किया था. उन्हे तब पकड़ा गया जब वो स्कूल जा रही थीं और बाद में दो व्यक्ति उन्हें एक गाड़ी में अपने साथ ले गए थे.

उसने बताया कि एक व्यक्ति ने जब उसे चाकू दिखाया तो वे बेहोश हो गई और जब उठी तो डर से चीख़ना शुरु कर दिया तो एक महिला ने उन्हें बिस्किट दिए.

सोहाना ने बताया, “शाम को उन्होंने मुझे बिस्किट दिए और मैं फिर से सो गई. जब मैं सुबह को उठी तो उन्होंने मुझे आत्मघाती जैकेट पहना दी.”

पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी सलीम मरवत ने पत्रकारों को बताया कि लकड़ी ने जो आत्मघाती जैकेट पहनी हुई थी उसका वज़न करीब नौ किलो था.

पुलिस के मुताबिक उसने अपहरणकर्ताओं की तलाश के लिए अभियान शुरु कर दिया है.

संबंधित समाचार