'अफ़ग़ान राष्ट्रपति के आरोप ख़ारिज'

हामिद करज़ई इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption हामिद करज़ई ने पाकिस्तान पर हमलों का आरोप लगाया है.

पाकिस्तानी सेना ने अफ़ग़ानिस्तान के राष्ट्रपति हामिद करज़ई के उस बयान को रद्द कर दिया है जिसमें उन्होंने अफ़ग़ानिस्तान के इलाक़े में पिछले कुछ हफ़्तों के दौरान पाकिस्तान की ओर से रॉकेट दागे जाने का आरोप लगाया था.

पाकिस्तानी सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल अतहर अब्बास ने बीबीसी से बात करते हुए कहा कि अफ़ग़ान राष्ट्रपति हामिद करज़ई के बयान में कोई सच्चाई नहीं है और पाकिस्तानी सुरक्षाबलों की ओर अफ़ग़ानिस्तान में एक भी रॉकेट नहीं दागा गया है.

उन्होंने आगे कहा, “पिछले एक महीने के दौरान ढाई सौ से तीन सौ चरमपंथी अफ़ग़ानिस्तान से पाकिस्तानी इलाक़ों में दाख़िल हुए और सुरक्षाबलों पर दीर, मोहमंद और बजौड़ के इलाक़ों में पाँच हमले किए जिसमें 55 सुरक्षाकर्मी मारे गए थे और 80 के करीब घायल हो गए थे.”

मेजर जनरल अतहर अब्बास ने बताया कि अफ़ग़ानिस्तान भागने की कोशिश कर रहे चरमपंथियों और सुरक्षबलों के बीच मुठभेड़ में एक आध रॉकेट अफ़ग़ानिस्तान में गिरने की संभावना को रद्द नहीं किया जा सकता.

दूसरी ओर अफ़ग़ान राष्ट्रपति हामिद करज़ई के बयान पर अफ़ग़ानिस्तान में मौजूद अंतरराष्ट्रीय सेनाओं का कहना है कि वह उन इलाक़ों में नहीं हैं इसलिए आज़ाद सूत्रों से उन ख़बरों की पुष्टि नहीं कर सकते हैं.

'हमलों का आरोप'

ग़ौरतलब है कि अफ़ग़ानिस्तान के राष्ट्रपति हामिद करज़ई ने पाकिस्तान पर आरोप लगाया था कि पिछले तीन हफ़्तों में पाकिस्तान की ओर से अफ़ग़ानिस्तान के भीतर 450 रॉकेट दागे गए हैं.

अफ़ग़ानिस्तान के अधिकारियों का कहना था कि इन हमलों में 12 बच्चों समेत 36 लोग मारे गए हैं.

ये रॉकेट कुनाड़ और नंगरहार प्रांतों में दागे गए थे जहाँ से नैटों की सेनाओं की वापसी हो चुकी है.

अफ़ग़ानिस्तान के अधिकारियों का कहना था कि इन इलाक़ों में अब पाकिस्तान तालिबान घुस गए हैं.

ग़ौरतलब है कि अफ़ग़ान राष्ट्रपति हामिद करज़ई ने ये मामला पाकिस्तानी राष्ट्रपति आसिफ़ अली ज़रदारी के समक्ष शनिवार को उठाया था.

संबंधित समाचार