पाक: सैन्य अधिकारियों पर शिकंजा

विपक्ष के नेता चौधरी निसार अली ख़ान इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption संसद की लोक लेखा समिति के प्रमुख संसद में विपक्ष के नेता चौधरी निसार अली ख़ान हैं.

पाकिस्तानी संसद की लोक लेखा समिति ने भ्रष्टाचार के आरोप में तीन वरिष्ठ सेवानिवृत्त सैन्य अधिकारियों के ख़िलाफ़ कार्रवाई का निर्देश दिया है.

पाकिस्तान के इतिहास में यह पहला मौक़ा है जब संसद की लोक लेखा समिति ने पूर्व सैन्य अधिकारियों के ख़िलाफ़ कार्रवाई की सिफ़ारिश की है.

इन सेवानिवृत्त सैन्य अधिकारियों ने पाकिस्तानी सेना की एक संस्था नेशनल लॉजिस्टिक सेल को लगभग दो अरब रुपए का नुक़सान पहुँचाया था.

इस्लामाबाद स्थित बीबीसी संवाददाता ज़ुल्फ़िक़ार अली के मुताबिक़ लोक लेखा समिति की शुक्रवार को बैठक हुई जिसमें सेना के तीन पूर्व अधिकारियों लेफ्टीनेंट जनरल ख़ालिद मुनीर, लेफ्टीनेंट जनरल मोहम्मद अफ़ज़ल और मेजर जनरल ज़हीर अख़्तर को नेशनल लॉजिस्टिक सेल में हुए वित्तीय घोटाले का ज़िम्मेदार ठहराया.

लेफ्टिनेंट जनरल ख़ालिद मुनीर और लेफ्टिनेंट जनरल मोहम्मद अफ़ज़ल नेशनल लॉजिस्टिक सेल यानी एनएलसी के प्रमुख रह चुके हैं जबकि मेजर जनरल ज़हीर अख़्तर मुख्य निदेशक के पद पर रह चुके हैं.

लोक लेखा समिति ने केंद्रीय योजना प्रभाग को निर्देश दिए हैं कि वह उन तीनों सैन्य अधिकारियों के ख़िलाफ़ कार्रवाई शुरु करने के लिए रक्षा सचिव को कहें.

समिति ने नेशनल लॉजिस्टिक सेल के पूर्व मुख्य वित्त अधिकारी सईदुर्रहमान के ख़िलाफ़ भी कार्रवाई शुरु करने का निर्देश दिया है.

पूर्व सैन्य अधिकारियों और एक सिविल ऑफ़िसर पर आरोप है कि उन्होंने पूर्व सैन्य शासक परवेज़ मुशर्रफ़ के कार्यकाल में वित्त मंत्रालय के नियमों का उल्लंघन करते हुए स्टॉक एक्सचेंज में निवेश किया था.

उस समय पाकिस्तान के ऑडिटर जनरल ने इस पर आपत्ति जताते हुए उसे नियमों का उल्लंघन क़रार दिया था.

कैबिनेट डिविज़न की एक रिपोर्ट के मुताबिक 10 अप्रैल 2009 तक नेशनल लॉजिस्टिक सेल को एक अरब 82 करोड़ रुपए से ज़्यादा का नुकसान पहुँचाया गया था.

ग़ौरतलब है कि करीब सात महीने पहले सेनाध्यक्ष जनरल अशफ़ाक परवेज़ कियानी ने नेशनल लॉजिस्टिक सेल में व्यापक स्तर पर हुए भ्रष्टाचार की जाँच के आदेश दिए थे लेकिन उसमें कोई प्रगति नहीं हुई है.

संसद की लोक लेखा समिति के प्रमुख संसद में विपक्ष के नेता चौधरी निसार अली ख़ान हैं और यह पाकिस्तान में पहली बार हुआ है कि विपक्ष के नेता को लोक लेखा समिति का प्रमुख बनाया गया है.

संबंधित समाचार