'अफ़ग़ानिस्तान पाक तालिबान का गढ़'

अतहर
Image caption सेना प्रवक्ता के मुताबिक़ अफ़ग़ान इलाक़े तालिबान के गढ़ बन गए हैं.

पाकिस्तान की सेना ने आरोप लगाया है कि चरमपंथियों ने अफ़ग़ानिस्तान के इलाक़ों, कुनड़ और नूरिस्तान में सुरक्षित ठिकाने बना लिए हैं और वह पाकिस्तानी इलाक़ों में हमले कर रहे हैं.

सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल अतहर अब्बास ने बीबीसी से बातचीत करते हुए कहा कि वरिष्ठ चरमपंथी नेता फ़ज़लुल्लाह, फ़क़ीर मोहम्मद, अब्दुल वली और हकीमुल्लाह अफ़ग़ानिस्तान में मौजूद हैं और उन्होंने कुनड़ और नूरिस्तान प्रांत में सुरक्षित ठिकाने बना लिए हैं.

उन्होंने बताया कि इन इलाक़ों से जब नेटो और अफ़ग़ान सैनिक अपने नाके बंद कर रहे थे उस वक़्त पाकिस्तानी सेना ने उन्हें अपनी चिंता से अवगत कराया था जो अब सही सिद्ध हो रही है.

'तालिबान का वीडियो'

पाकिस्तान के इलाक़े दीर में सुरक्षाबलों की मौत की कथित वीडियो पर बात करते हुए मेजर जनरल अतहर अब्बास ने कहा कि यह घटना पहली जून को घटी थी और उसकी जाँच की जा रही है.

घटना की और जानकारी देते हुए उन्होंने कहा कि पहली जून को पाकिस्तानी तालिबान के 50 से 60 चरमपंथियों ने अफ़ग़ानिस्तान की ओर से देश में प्रवेश किया और उन्होंने सुरक्षा चौकी पर हमला कर दिया.

उनके मुताबिक़ उस समय चौकी पर 30 सुरक्षाकर्मी मौजूद थे और सभी इस हमले में मारे गए.

उन्होंने बताया कि सुरक्षाबलों की चौकी पर हमले के बाद चरमपंथियों ने स्थानीय लोगों को बंधक बना लिया और छह स्कूलों को तबाह कर दिया.

'घुसपैठ के आरोप'

अफ़ग़ान सीमा पर पाकिस्तानी सैनिकों की संख्या के बारे में उन्होंने बताया कि सीमा पर सेना की करीब नौ सौ चौकियाँ हैं जिन पर एक लाख 37 हज़ार सैनिक तैनात हैं.

उनके मुताबिक़ सीमा की दुसरी तरफ़ अफ़ग़ान या अतंरराष्ट्रीय सैनिक बलों की तैनाती नहीं होने से चरमपंथियों को नियंत्रण में करने में दिक़्क़ते आ रही हैं.

ग़ौरतलब है कि अफ़ग़ानिस्तान और पाकिस्तान की सीमा पर चरमपंथियों की घुसपैठ दोनों देशों के लिए सर दर्द बनी हुई है. हाल के दिनों में दोनों देशों ने चरमपंथियों की घुसपैठ के लिए एक दूसरे पर आरोप लगाए थे.

संबंधित समाचार