46 साल बाद व्यक्त की संवेदना

पाकिस्तानी एयर फ़ोर्स एफ़-7 विमान इमेज कॉपीरइट AP
Image caption पूर्व पायलट ने भारतीय पायलट के बेटी को लिखी ई-मेल

भारत पाकिस्तान के बीच 1965 में हुए युद्ध के दौरान गिराए गए एक भारतीय नागरिक विमान के पायलट की बेटी से पाकिस्तानी पायलट ने ईमेल लिखकर माफ़ी मांगी है.

क़ैस हुसैन नाम के इस पाकिस्तानी पायलट ने 1965 के युद्ध में मारे गए जहांगीर इंजीनियर नाम के भारतीय पायलट की बेटी फ़रीदा सिंह से ई-मेल के ज़रिए क्षमा मांगी है.

युद्ध के दौरान एक भारतीय मालवाहक जहाज़ रन ऑफ़ कच्छ में भारत-पाकिस्तान सीमा पर घूम रहा था. क़ैस हुसैन ने इस भारतीय विमान को मार गिराया था.

फ़रीदा सिंह को लिखी ईमेल में हुसैन ने विस्तार से उस दिन के घटनाक्रम का विवरण दिया है.

पांच अगस्त, 2011 को लिखी ईमेल का शीर्षक है - कन्डोलंस यानि संवेदना.

दुख का अहसास

क़ैस हुसैन ने फ़रीदा को लिखा है कि 46 साल पहले हुई वो घटना उन्हें आज भी अच्छी तरह से याद है.

क़ैस हुसैन लिखते हैं, "तुम्हारे पिता ने मेरे जहाज़ को देख लिया था. मैंने उनके विमान पर देखते ही हमला करने के बजाय अपने उच्च अधिकारी को बताया कि मैंने एक आठ सीटों वाले माहवाहक हवाई जहाज़ को इंटरसेप्ट किया है और मुझे इससे निपटने के लिए निर्देश की ज़रुरत है. मैं ये उम्मीद लगाए बैठा था कि मुझे बिना बम चलाए वापिस बुला लिया जाएगा. लेकिन तीन या चार मिनट बाद मुझे हवाई जहाज़ को गिराने का निर्देश दिया गया."

पूर्व पाकिस्तानी पायलट क़ैस हुसैन आगे लिखते हैं कि उन्होंने इस घटना के बाद भारतीय मीडिया में इसके बारे कई ख़बरें पढ़ीं, जिनमें से कुछ चश्मदीदों के बयान भी थे. उनके अनुसार ये सब अफ़वाहें थीं और यहां तक कि भारत सरकार की जांच भी सच से बहुत दूर थी.

क़ैस हुसैन आगे लिखते हैं,"मिसेज़ सिंह मैं ये सब विस्तार से आपको इसलिए बता रहा हूं क्योंकि मैंने जो भी किया वो फ़र्ज़ की राह में किया और ये 'युद्ध और प्यार' में सब कुछ जायज़ है के सिंद्धात पर नहीं था, जैसाकि जानकारी के अभाव में भारतीय मीडिया कहता रहा है...लेकिन दुर्भाग्यशाली मौत चाहे वो कैसे भी हुई हो, हर मनुष्य को तकलीफ़ पहुंचाती है और मैं इसका अपवाद नहीं. मैं आपके लिए, आपके परिवार के लिए और अन्य सात परिवारों के लिए दुख महसूस करता हूं."

पूर्व पाकिस्तानी पायलट ने इसके बाद फ़रीदा सिंह के भाई नौशिर की हाल में मौत पर खेद जताया है.

क़ैस हुसैन ने अपने ई-मेल के आख़िर में लिखा है कि वे फ़रीदा और उनके परिवार की ख़ुशहाली के लिए प्रार्थना करते हैं.

संबंधित समाचार