पाक प्रधानमंत्री की अमरीका यात्रा रद्द

गिलानी इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption बाढ़ के कारण प्रधानमंत्री ने अपनी अमरीका यात्रा रद्द कर दी है.

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री यूसुफ़ रज़ा गिलानी ने सिंध में भारी बारिशों के बाद आई बाढ़ को देखते हुए अपनी अमरीका यात्रा स्थागित कर दी है.

प्रधानमंत्री कार्यालय से जारी एक प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार सिंध में आए भयंकर बाढ़ के बाद स्थिति काफ़ी चिंताजनक हो गई है इसलिए प्रधानमंत्री ने अपनी अमरीका यात्रा स्थागित कर दी है.

बयान में बताया गया है कि उन्हें संयुक्त राष्ट्र की महासभा को संबोधित करना था लेकिन उनकी जगह अब विदेश मंत्री हिना रब्बानी खर संबोधित करेंगी.

बयान में यह भी बताया गया है कि प्रधानमंत्री यूसुफ़ रज़ा गिलानी शनिवार को सिंध के बाढ़ ग्रस्त इलाक़ों का दौरा करेंगे और सरकार की ओर से चल रहे राहत कार्य की निगरानी करेंगे.

'कड़ी आलोचना'

प्रधानमंत्री यूसुफ़ रज़ा गिलानी कुछ ईरान की राजकीय यात्रा पर थे और उनकी इस यात्रा की कड़ी आलोचना हो रही थी कि पाकिस्तान बाढ़ से जूझ रहा है और प्रधानमंत्री विदेशी यात्रा पर हैं.

राष्ट्रपति आसिफ़ अली ज़रदारी भी इन दिनों ब्रिटेन की निजी यात्रा पर हैं और उनकी भी कड़े शब्दों में निंदा की जा रही है क्योंकि राष्ट्रपति के अपने ज़िला नवाबशाह में भारी नुक़सान हुआ है.

सिंध में बारिश का सिलसिला पिछले दो हफ़्तों से जारी है जिसकी वजह से प्रांत के दक्षिणी ज़िलों में बाढ़ आ गई है.

सिंध सरकार का कहना है कि ताज़ा बारिशों और बाढ़ से 53 लाख से ज़्यादा लोग प्रभावित हुए हैं जिसमें 32 प्रतिशत महिलाएँ हैं.

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption सिंध में भारी बारिशों के बाद प्रांत के दक्षिणी ज़िलों में बाढ़ आ गई है.

सरकार की ओर से दिए गए आँकड़ों के मुताबिक़ बारिश से सबसे ज़्यादा विनाश प्रांत के दक्षिणी और मध्य ज़िलों में हुआ है जिसमें बदीन, नवाबशाह, सांघड़, मीरपुर ख़ास, उमर कोट, टंडो मोहम्मद ख़ान, टंडो अल्लाहयार और नौशहरो फ़ेरोज़ शामिल हैं.

सिंध सरकार का कहना है कि भारी बारिश और उसके बाद आने वाली बाढ़ से प्रांत में 45 लाख 66 हज़ार एकड़ पर खड़ी फ़सले पूरी तरह से नष्ट हो गई हैं.

ग़ौरतलब है कि प्रधानमंत्री यूसुफ़ रज़ा गिलानी ने शनिवार को अंतरराष्ट्रीय समुदाय से बाढ़ पीड़ितों की सहायता के लिए गुहार लगाई थी और उससे पहले राष्ट्रपति आसिफ़ अली ज़रदारी ने सहायता की अपील की थी.

पिछले साल सिंधु नदी में आई भयंकर बाढ़ से लाखों लोग प्रभावित हुए थे और अब बारिश का प्रकोप झेल रहे हैं.

संबंधित समाचार