पाक में बस पर फ़ायरिंग, 26 की मौत

क्वेटा धमाका इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption क्वेटा में आठ सितंबर को दो आत्मघाती हलमे हुए थे जिसमें कई लोग मारे गए थे.

पाकिस्तान के बलूचिस्तान प्रांत में एक यात्री बस पर हुई गोलीबारी में 26 मारे गए और कुछ घायल भी हो गए.

ज़िला मस्तोंग के वरिष्ठ अधिकारी शाह नवाज़ ने बीबीसी संवाददाता अयूब तरीन को बताया है कि यात्री बस क्वेटा से ईरान जा रही थी. इसी बीच ज़िला मस्तोंग के इलाक़े लक पास पर फ़ायरिंग की गई.

उन्होंने बताया कि मरने वालों की संख्या बढ़ सकती क्योंकि बस में 60 से 65 लोग सवार थे.

उन्होंने कहा कि बस में शिया समुदाय के लोग सवार थे और वह ईरान में अपने धार्मिक स्थलों की यात्रा करने जा रहे थे.

घायलों को ज़िला मस्तोंग और क्वेटा के अस्पतालों में भर्ती किया गया है और डॉक्टरों के मुताबिक़ कुछ घायलों की स्थिति गंभीर हैं.

प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि बस पर दोनों ओर से अंधाधुंध फ़ायरिंग की गई और जिस जगह गोलीबारी हुई, वहाँ से अर्धसैनिक बलों की चेकपोस्ट क़रीब 10 किलोमीटर दूर है.

घटना के बाद पुलिस और अर्धसैनिक बलों ने इलाक़े को घेर लिया और किसी को जाने की अनुमति नहीं दी.

'हमले की कड़ी निंदा'

पाकिस्तान शिया परिषद ने यात्री बस पर हुई गोलीबारी की घटना की कड़े शब्दों में निंदा की है और तीन दिनों के शोक की घोषणा की है.

प्रधानमंत्री यूसुफ़ रज़ा गिलानी ने भी बस पर हुए हमले की निंदा की है.

शिया समुदाय की सुरक्षा को लेकर पूछे गए सवाल पर बलूचिस्तान के गृह सचिव नसीबुल्लाह बाज़ई ने बीबीसी को बताया कि उन्होंने अपनी यात्रा के बारे में प्रांतीय सरकार को कोई सूचना नहीं दी थी.

उन्होंने कहा कि ईरान जाने वाले यात्रियों की सुरक्षा केलिए एक प्रक्रिया मौजूद है लेकिन सरकार को इस बारे में कोई पता भी नहीं था.

अभी तक किसी गुट इस हमले की ज़िम्मेदारी नहीं ली है, लेकिन पुलिस का कहना है कि शिया समुदाय पर हमला किया गया है.

ग़ौरतलब है कि बलूचिस्तान में पहले भी शिया समुदाय पर हमले हुए हैं.

क़रीब दो हफ़्ते पहले क्वेटा में एक आत्मघाती हमला किया गया था, जिसमें 10 लोग मारे गए थे.

संबंधित समाचार