'हमले से गंभीर परिणाम निकल सकते हैं'

नेटो हमलों के ख़िलाफ़ प्रदर्शन इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption नेटो हमलों के ख़िलाफ़ देश भर में विभिन्न राजनीतिक दलों ने विरोध प्रदर्शन किया.

पाकिस्तानी सेना ने कहा है कि पिछले तीन सालों में अफ़ग़ानिस्तान में मौजूद अंतरराष्ट्रीय सेना के आठ हमलों में 72 सैनिक मारे गए हैं और 250 से ज़्यादा घायल हो चुके हैं.

सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल अतहर अब्बास ने बीबीसी से बातचीत करते हुए कहा, “हम समझते हैं कि इस बार नेटो सेना ने जो हमला किया है, उसके गंभीर परिणाम निकल सकते हैं.”

उन्होंने बताया कि पिछले तीन सालों के दौरान हुए आठ के करीब हमलों में अफ़सरों सहित 72 सैनिक मारे जा चुके हैं और 250 से ज़्यादा घायल हो चुके हैं.

जब उनसे पूछा गया कि नेटो की ओर से पाकिस्तानी सैनिकों की मौत पर खेद व्यक्त किया है तो उन्होंने जवाब दिया, “जी नहीं, हम समझते हैं कि यह काफ़ी नहीं है क्योंकि इस प्रकार की कार्रवाई पहले भी हो चुकी है और अब इसको स्वीकार नहीं किया जाएगा. इसको लेकर हमारा नेतृत्व फ़ैसला लेगा.”

'पाकिस्तान का भारी नुक़सान'

पाकिस्तानी सेना के मुताबिक़ नेटो के हैलीकॉप्टरों ने शुक्रवार और शनिवार की दरम्यानी रात मोहम्मद एजेंसी में पाकिस्तान के दो चेकपोस्ट पर गोलीबारी की थी जिसमें दो अफ़सरों सहित 24 सैनिक मारे गए थे और 13 घायल हो गए थे.

नेटो सेना और अफ़ग़ान अधिकारियों ने बीबीसी को बताया कि स्पेशल मिशन के सैनिकों पर पाकिस्तान की ओर से हमला किया गया था.

पाकिस्तानी सेना के प्रवक्ता ने इस दावे का खंडन किया और कहा कि पाकिस्तान की ओर से कोई हमला नहीं किया गया था.

मेजर जनरल अतहर अब्बास ने कहा, “क्या नेटो सेना यह बताएगी कि अगर हमला पाकिस्तानी सीमा से किया गया तो उनकी तरफ़ कोई मारा गया या कोई और नुक़सान हुआ.?”

ग़ौरतलब है कि प्रधानमंत्री युसूफ़ रज़ा गिलानी की अध्यक्षता में बनी समिति ने अफ़ग़ानिस्तान में नैटो के लिए खाद्य और अन्य सामग्री ले जाने वाले रास्ते बंद कर दिए हैं. गिलानी ने इस हमले को पाकिस्तान की संप्रभुता में दख़ल बताया था.

मंत्रिमंडल की रक्षा मामलों की समिति की बैठक के बाद पाकिस्तान सरकार ने कहा था कि वो अमरीका, नैटो और अंतरराष्ट्रीय गठबंधन के साथ सभी कार्यक्रमों पर जारी सहयोग पर दोबारा विचार करेगी जिसमें कूटनीतिक, राजनीतिक, सैन्य सहयोग शामिल है.

समिति ने ये भी कहा था कि अमरीका को शम्सी हवाई अड्डा 15 दिन में खाली करना होगा. अमरीका यहाँ से ड्रोन हमले करता है.

संबंधित समाचार