कराची में मदरसे से छुड़ाए गए 50 छात्र

मदरसा छात्र इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption कराची के एक मदरसे में करीब पचास छात्रों को बंधक बनाया हुआ है और पुलिस ने उन्हें वहाँ से छुड़वाया.

कराची के एक मदरसे से पचास छात्रों को बचाकर बाहर निकाला गया है. आरोप है कि इन छात्रों को यातनाएं देकर, इन्हें तालिबान का लड़ाका बनाने के लिए दबाव बनाया जा रहा था.

शुरूआती ख़बरों के अनुसार छात्रों को एक तहखाने में रखा गया था, जहां उनकी पिटाई की जाती थी और उन्हें खाना भी नहीं दिया जाता था

एक पुलिस अधिकारी ने बीबीसी को बताया है कि अधिकतर छात्र नशीली दवाओं के आदी थे और उनके माता-पिता ने उन्हें इलाज के लिए स्कूल में भर्ती करवाया था.

एक लड़के ने कहा है कि तालिबान के कुछ सदस्य उनके स्कूल में आए थे और उन्हें युद्ध के लिए तैयार रहने को कह रहे थे.

अधिकारियों का कहना है कि सभी छात्रों की उम्रें 20 से 50 सालों बीच में हैं और अधिकतर का संबंध ख़ैबर पख़्तूनख़्वाह प्रांत से है.

स्थानीय मीडिया में आई ख़बरों के अनुसार जिन लड़कों ने तालिबान के आहवान का विरोध किया था उन्हें उलटा लटका दिया गया था.

पाकिस्तान के गृह मंत्रालय ने इस मामले की जांच के आदेश दे दिए हैं.

उन्होंने धार्मिक स्कूलों के प्रमुखों की एक बैठक भी बुलाई है ताकि इस मामले पर गंभीर रुप से विचार किया जाए और एक ऐसी रणनीति बनाई जाए ताकि भविष्य में इस तरह की घटनाएँ न हों.

उन्होंने सिंध पुलिस को आदेश दिया कि वह हर बच्चे के परिवार की जानकारी का पता किया जाए कि उनको बच्चों को आतंकवाद के लिए तो इस्तेमाल नहीं किया जा रहा था.

संबंधित समाचार