पाकिस्तान में गवाह डॉक्टर की हत्या

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption बाकिर खाह कथित तौर पर पाकिस्तानी सुरक्षा बलों के ज़रिए कुछ विदेशियों की हत्या का प्रमुख गवाह थे

पाकिस्तान में एक ऐसे डॉक्टर की गोलीमार कर हत्या कर दी गई है जो कि कथित तौर पर पाकिस्तानी सुरक्षा बलों के ज़रिए कुछ विदेशियों की हत्या के प्रमुख गवाह थे.

डॉक्टर बाक़िर शाह की गुरूवार को क्वेटा शहर में गोली मार कर हत्या कर दी गई.

उनकी हत्या उस समय की गई जब वो अपनी कार मे जा रहे थे कि अचानक एक अज्ञात बंदूक़धारी ने उन्हें जबरन कार से बाहर निकाला और उन पर गोलियों की बैछार कर दी.

डॉक्टर को फ़ौरन पास के अस्पताल ले जाया गया लेकिन उन्हें नहीं बचाया जा सका.

मई महीने में डॉक्टर शाह ने एक विवादास्पद घटनाक्रम में मारे गए विदेशियों की ऑटोप्सी (मृतक के शरीर के आंतरिक अंगों के हिस्सों की जाँच) की थी.

मामला

दरअसल रूस के दो पुरुष और तीन महिलाएं ब्लूचिस्तान प्रांत के क्वेटा शहर के बाहर एक पुलिस चेकपोस्ट के पास मारे गए थे.

मारे जाने वाली एक महिला गर्भवती थी. पुलिस का कहना था कि ये सारे आत्मघाती हमलावर थे और विस्फोटक ले जा रहे थे.

पुलिस के अनुसार ये सारे विदेशी लोग बम धमाके में मारे गए.

पुलिस का ये भी कहना था कि हमले के वक़्त उनके पास हथगोले थे और उनके शवों के पास बम बिखरे पड़े थे.

डॉक्टर बाक़िर शाह ने पुलिस की इन रिपोर्टों का खंडन किया था.

बीबीसी के इस्लामाबाद संवाददाता अलीम मक़बूल का कहना है कि डॉक्टर शाह ने इन मारे गए विदेशियों की अटॉप्सी (मृतक शरीर के अंगों के हिस्सों की जाँच) की थी.

डॉक्टर शाह इस मामले के गवाह थे और उन्होंने भी अटॉप्सी से वही नतीजे निकाले जो प्रत्यक्षदर्शियों की बातों का समर्थन करते थे.

प्रत्यक्षदर्शियों का कहना था कि इन विदेशी लोगों को सुरक्षाबलों ने बेहद नज़दीक से कई बार गोलियाँ मारी.

प्रत्यक्षदर्शियों का ये भी कहना था कि ये सब निहत्थे थे.

इससे पहले, डॉक्टर शाह के इस मामले में सुरक्षाबलों के ख़िलाफ़ गवाही दर्ज कराने के बाद उन्हें रेस्टोरेंट से बाहर निकाला गया और अज्ञात व्यक्तियों के एक समूह ने उन्हें बुरी तरह पीटा था .

बाद में उन्होंने शिकायत की कि उन्हें सुरक्षा मुहैया कराई जानी चाहिए लेकिन उन्हें सुरक्षा कभी नहीं मिली.

संबंधित समाचार