यौन शोषण मामला:पाकिस्तानी सैनिकों को सज़ा

हैती में संयुक्त राष्ट्र शांति बल इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption हैती में संयुक्त राष्ट्र शांति बल 2004 से ही तैनात है

कैरेबियाई देश हैती में तैनात संयुक्त राष्ट्र शांति दल में शामिल दो पाकिस्तानी सैनिकों को यौन शोषण के आरोप में एक साल क़ैद की सज़ा सुनाई गई है.

इन दोनों सैनिकों को संयुक्त राष्ट्र शांति दल से निलंबित कर दिया गया है.

दोनों पाकिस्तानी सैनिकों पर इसी साल जनवरी में गोन्यूज़ के इलाक़े में एक 14 वर्षीय लड़के से यौन शोषण करने का आरोप लगाया गया था.

यह सज़ा पाकिस्तान की एक फौजी अदालत ने सुनाई और दोनों सैनिक पाकिस्तान में क़ैद काटेंगे. इस सुनवाई के लिए पाकिस्तान की फौजी अदालत को विशेष तौर पर हैती भेजा गया था.

ऐसा पहली बार हुआ है कि संयुक्त राष्ट्र के शांति दल के सैनिकों पर मुक़दमा उसी देश में चलाया गया है जहाँ यह घटना घटी है.

हैती के न्याय मंत्री मेगोएल ब्रोनाश ने पत्रकारों को बताया कि उन्हें इस फ़ैसले को लेकर पाकिस्तानी और संयुक्त राष्ट्र के अधिकारियों से ज़्यादा उम्मीद थी और यह फैसला सही दिशा में अहम क़दम है.

पहले भी लगे आरोप

ग़ौरतलब है कि इससे पहले भी संयुक्त राष्ट्र के शांति दल में शामिल सैनिकों पर इस प्रकार के आरोप लगे हैं.

इस पहले कॉंगो और आईवरी कोस्ट जैसे देशों में तैनात संयुक्त राष्ट्र के शांति दल पर व्यापक स्तर पर यौन शोषण करने के आरोप लगे थे और संयुक्त राष्ट्र ने इसकी जाँच भी की थी.

हैती में इससे पहले भी संयुक्त राष्ट्र के शांति दल पर आरोप लगे थे.

उस घटना की वीडियो इंटरनेट पर अपलोड कर दी गई थी, जिसकी वजह से हैती की राजधानी पोर्ट-ओ-प्रिंस में विरोध प्रदर्शन हुए थे और संयुक्त राष्ट्र के शांति दल से देश छोड़ने की मांग की गई थी.

ग़ौरतलब है कि हैती में वर्ष 2004 से संयुक्त राष्ट्र का शांति दल तैनात है.