भारत आने से पहले जरदारी मिले कियानी और गिलानी से

इमेज कॉपीरइट Reuters

पाकिस्तान के राष्ट्रपति आसिफ अली ज़रदारी ने सेनाध्यक्ष जनरल अशफाक परवेज़ कियानी और प्रधानमंत्री यूसुफ रज़ा गिलानी से मुलाकात की है.

यह मुलाकात शनिवार की रात लाहौर में गर्वनर हाउस में हुई, जिसमें विदेश मंत्री हिना रब्बानी खर, गृह मंत्री रहमान मलिक, विदेश सचिव जलील अब्बास जिलानी सहित वरिष्ठ अधिकारी भी शामिल थे.

प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से जारी एक प्रेस बयान के मुताबिक उच्चस्तरीय मुलाकात में राष्ट्रीय सुरक्षा और राष्ट्रपति की भारत यात्रा पर विचार विमर्श किया गया.

ग़ौरतलब है कि राष्ट्रपति आसिफ अली ज़रदारी रविवार को एक दिवसीय यात्रा पर भारत जा रहे हैं जहाँ वे भारतीय प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के साथ मुलाकात करेंगे.

अधिकारियों के मुताबिक राष्ट्रपति आसिफ अली ज़रदारी की यह निजी यात्रा है और वे अजमेर शरीफ में ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती की दरगाह की जियारत करेंगे.

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अब्दुल बासित ने पत्रकारों को बताया कि पाकिस्तान का भारत के साथ बातचीत का दूसरा दौर चल रहा है और इस संबंध में राष्ट्रपति का निजी दौरा बहुत ही महत्वपूर्ण है.

जरदारी का विरोध

उससे पहले लाहौर में पत्रकारों से संक्षिप्त बातचीत करते हुए राष्ट्रपति आसिफ अली ज़रदारी ने कहा कि वह निजी यात्रा पर भारत जा रहे हैं और उसका उद्देश्य केवल धार्मिक है.

ग़ौरतलब है कि सरकार के विरोधी राजनीतिक और धार्मिक दलों ने राष्ट्रपति आसिफ अली ज़रदारी की भारत यात्रा का कड़ा विरोध करते हुए उसे स्थागित करने की माँग की है.

राष्ट्रपति ज़रदारी ऐसे समय में भारत जा रहे हैं जब अमरीका ने चरमपंथी गुट जमात उद दावा के प्रमुख हाफिज़ सईद को पकड़ने या पकड़ने में मदद देने वाली जानकारी के लिए इनाम की घोषणा की है.

कुछ दिन पहले संसद के संयुक्त सत्र में विपक्ष ने उनकी भारत यात्रा की कड़ी आलोचना की थी और विपक्ष के नेता चौधरी निसार अली खान ने कहा था कि राष्ट्रपति को बिना किसी कार्यक्रम के भारत की यात्रा नहीं करनी चाहिए.

प्रधानमंत्री यूसुफ रज़ा गिलानी ने राष्ट्रपति ज़रदारी का बचाव किया था और संसद को बताया था कि यह उनकी निजी यात्रा है और राष्ट्रपति कई सालों से अजमेर शरीफ़ जाने के इच्छुक थे.

संबंधित समाचार