अलग हुए परिवारों को वीजा में प्राथमिकता: पाक

मखदूम अमीन फहीम (फाइल) इमेज कॉपीरइट Pakistani Ministry of Commerce Website
Image caption मखदूम अमीन फहीम ने कहा कि मजबूत व्यापारिक रिश्ते दूसरे मसलों को भी हल करने में सहायक होंगे

भारत और पाकिस्तान के बीच तैयार हो रहे नए समझौते के तहत विभाजन के कारण बंट गए परिवारों को वीजा पाने में प्राथमिकता दी जाएगी.

पाकिस्तान के वाणिज्य मंत्री मखदूम अमीन फहीम ने बीबीसी संवाददाता सुहैल हलीम से एक विशेष साक्षात्कार में कहा, "जब वीजा पाना आसान बनाया जाएगा तो उसमें दोनों तरफ (भारत और पाकिस्तान) के उन परिवारों को प्राथमिकता का प्रावधान होगा जो विभाजन की वजह से बंट गए थे और एक-दूसरे से मिलना चाहते हैं.

मखदूम अमीन फहीम इन दिनों भारत और पाकिस्तान के बीच नई वाणिज्य संधि के सिलसिले में दिल्ली में हैं.

उन्होंने कहा कि पयर्टन के चलते दिए जाने वाले वीजा को भी आसान किया जाएगा, वैसे व्यापार और वाणिज्य के क्षेत्र को लेकर इस मामले में कार्रवाई जारी है.

जानकारी

हालांकि सुहैल हलीम के बार-बार सवाल करने पर भी मखदूम अमीन फहीम ने इससे अधिक विस्तृत जानकारी देने से ये कहते हुए मना कर दिया कि ये मामला सीधे-सीधे उनके मंत्रालय का नहीं है और इसके लिए दोनों देशों के गृह मंत्रालयों को फैसले करने हैं.

भारत के गृह मंत्री पी चिदंबरम ने शुक्रवार को पंजाब के अटारी में कहा था कि भारत और पाकिस्तान जल्द ही एक उदार वीजा समझौते पर हस्ताक्षर कर सकते हैं.

पी चिदंबरम ने कहा था कि समझौते को पाकिस्तान के मंत्रिमंडल से मंजूरी मिलते ही इस पर हस्ताक्षर हो जाएंगे.

भारतीय गृह मंत्री के मुताबिक नए नियमों के तहत व्यापार-वाणिज्य में लगे लोगों, बुजुर्गों और पति-पत्नियों को वीजा मिलने में आसानी होगी.

कई बार एक मुल्क के में मौजूद महिला और पुरुषों को पड़ोसी देश में शादी करने की वजह से अलग-अलग रहना पड़ता है क्योंकि नागरिकता मिलनी इतनी आसान नहीं और अक्सर वीजा की दिक्कतें भी पेश आती हैं.

संबंधित समाचार