विदेशी चरमपंथी पाकिस्तान में हुए दाखिल: रिपोर्ट

तालिबान इमेज कॉपीरइट AP
Image caption रिपोर्ट के मुताबिक विदेशी चरमपंथियों में उज्बेक, चेचेन और ताजिक नागरिक हैं

पाकिस्तान की खुफिया एजेंसियों ने चेतावनी दी है कि प्रतिबंधित संगठनों अल-कायदा और तहरीक-ए-तालिबान को फिर से पाकिस्तान में सक्रिय करने के लिए विदेशी चरमपंथी कबायली इलाक़ों में दाखिल हुए हैं.

रिपोर्ट के मुताबिक इन लोगों में उज्बेक, चेचेन और ताजिक नागरिक शामिल हैं.

पाकिस्तान की खुफिया एजेंसियों के अनुसार इन विदेशी चरमपंथियों का पाकिस्तान में आने का उद्देश्य चरमपंथी गुटों के लोगों को चरमपंथी कार्रवाई और सशस्त्र प्रशिक्षण देना है और साथ उनका हौसला बढ़ाना है.

इस रिपोर्ट में यह नहीं बताया गया है कि पाकिस्तान में दाखिल होने वाले विदेशी नागरिकों की संख्या कितनी है.

ग़ौरतलब है कि पाकिस्तान और अफगानिस्तान के सीमांत इलाकों में लोगों की अवैध रुप से आवाजाही को रोकने के लिए सुरक्षा व्यावस्था कड़ी कर दी गई है लेकिन पूरे इलाके पर नज़र रखना संभव नहीं है.

आत्मघाती महिला हमलावर

गृह मंत्रालय के सूत्रों ने बीबीसी को बताया कि असैनिक खुफिया ऐजेंसियों की ओर से भेजी गई रिपोर्ट में कहा गया है कि पाकिस्तान आने वाले इन विदेशी नागरिकों में महिलाएँ भी शामिल हैं.

खुफिया ऐजेंसियों ने इन महिलाओं की पाकिस्तान में आने के बारे में कहा है कि यह महिलाएँ प्रतिबंधित चरमपंथी गुटों से संबधित महिलाओं को आत्मघाती हमलों की प्रशिक्षण देंगी.

अधिकारियों का कहना है कि यह चरमपंथी न केवल अल कायदा और तहरीक-ए-तालिबान के लोगों को प्रशिक्षण देंगे बल्कि उसके समर्थकों को भी प्रशिक्षण के लिए बुलाया जाएगा.

गृह मंत्रालय के मुताबिक गाजी फोर्स और लश्करे झंगवी इन दिनों तहरीक-ए-तालिबान के काफी करीब माने जाते हैं.

खुफिया ऐजेंसियों का कहना है कि कबायली इलाकों में सुरक्षाबलों की ओर चरमपंथियों के खिलाफ चल रहे अभियान के कारण उन लोगों को शहरी इलाकों में प्रशिक्षण दिया जाएगा, जिसमें पेशावर, डेरा इस्माइल खान, कराची और हैदराबाद शामिल हैं.

रिपोर्ट में इस बात का भी ज़िक्र है कि कबायली इलाकों में सुरक्षाबलों की कार्रवाई में मारे गए वरिष्ठ चरमपंथियों की वजह से अल-कायदा और तहरीक-ए-तालिबान काफी कमजोर हो गई हैं और विदेशी नागरिकों के आने का उद्देश्य उसको फिर से सक्रिय किया जाए.

रिपोर्ट मिलने के बाद गृह मंत्रालय ने चारों प्रांतों के वरिष्ठ अधिकारियों को उन लोगों की गिरफ्तारी के निर्देश दिए हैं.

संबंधित समाचार