पाकिस्तान: नए प्रधानमंत्री की घोषणा 22 को

यूसुफ़ रज़ा गिलानी इमेज कॉपीरइट
Image caption सुप्रीम कोर्ट ने यूसुफ़ रज़ा गिलानी को प्रधानमंत्री पद के लिए अयोग्य ठहराया है

पाकिस्तानी सुप्रीम कोर्ट की ओर से प्रधानमंत्री यूसुफ़ रज़ा गिलानी को अयोग्य क़रार दिए जाने के बाद नए प्रधानमंत्री के चयन के लिए राजनीतिक गतिविधियाँ जारी हैं.

पीपुल्स पार्टी के वरिष्ठ नेता ख़ुर्शीद शाह ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि देश के नए प्रधानमंत्री का चुनाव शुक्रवार यानी 22 जून होगा.

लेकिन उन्होंने यह स्पष्ट नहीं किया कि पीपुल्स पार्टी अपने किस नेता को यूसुफ़ रज़ा गिलानी की जगह पर बतौर प्रधानमंत्री सामने ला रही है.

उन्होंने कहा कि गुरुवार को नए प्रधानमंत्री का नामांकन-पत्र चुनाव आयोग में जमा करवाया जाएगा, जबकि प्रधानमंत्री के चुनाव के लिए संसद के निचले सदन राष्ट्रीय असेम्बली का सत्र शुक्रवार शाम साढ़े पाँच बजे बुलाया गया है.

बैठकों का दौर

नए प्रधानमंत्री के नामों पर विचार-विमर्श करने के लिए पीपुल्स पार्टी की एक अहम बैठक राष्ट्रपति आसिफ़ अली ज़रदारी की अध्यक्षता में हो रही है.

बैठक में पूर्व प्रधानमंत्री यूसुफ़ रज़ा गिलानी सहित पार्टी के वरिष्ठ नेता भाग ले रहे हैं.

स्थानीय मीडिया में आ रही ख़बरों के मुताबिक़, नए प्रधानमंत्री के लिए पूर्व रक्षामंत्री चौधरी अहमद मुख़्तार और मख़दूम शहाबुद्दीन के नाम सामने आ रहे हैं. लेकिन इस संबंध में पीपुल्स पार्टी की ओर से अभी तक कोई घोषणा नहीं हुई है.

बीती रात गठबंधन सरकार के सभी सदस्यों की एक अहम बैठक हुई, जिसमें अदालती फैसले के बाद उपजे संकट पर चर्चा की गई.

ग़ौरतलब है कि मुख्य न्यायाधीश जस्टिस इफ्तिख़ार चौधरी की अध्यक्षता में सुप्रीम कोर्ट की तीन सदस्यीय खंडपीठ ने मंगलवार को प्रधानमंत्री यूसुफ़ रज़ा गिलानी को अयोग्य क़रार दिया था.

अमरीका को उम्मीद

इस फैसले के बाद पाकिस्तान चुनाव आयोग ने यूसुफ़ रज़ा गिलानी की अयोग्यता की अधिसूचना जारी कर दी थी और मंत्रिमंडल भी भंग हो गया था.

दूसरी ओर, यूसुफ़ रज़ा गिलानी की बतौर प्रधानमंत्री अयोग्यता पर अमरीका ने कहा है कि पाकिस्तान में जारी राजनीतिक संकट उसका आंतरिक मामला है और आशा जताई कि क़ानून के मुताबिक़ इसका समाधान तलाशा जाएगा.

अमरीकी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता विक्टोरिया नोलेंड ने कहा कि अमरीका को यह आशंका नहीं है कि पाकिस्तान में सर्वोच्च न्यायालय के फैसले से वॉशिंगटन और इस्लामाबाद के संबंध प्रभावित होंगे.

संबंधित समाचार