क्यों है अहम पाक का कामरा

 गुरुवार, 16 अगस्त, 2012 को 08:03 IST तक के समाचार
मिराज विमान (फाइल फोटो)

कामरा में लड़ाकू विमान बनाने का दुनिया का सातवां बड़ा प्लांट है

पाकिस्तान के महत्वपूर्ण कामरा सैन्य हवाई अड्डे पर सेना की वर्दी में आए लगभग 12 हमलावरों ने गुरूवार तड़के हमला किया. सेना और हमलावरों के बीच यहां करीब तीन घंटे तक भीषण गोलीबारी हुई.

कामरा से संबंधित से कुछ मुख्य तथ्य इस प्रकार हैं:

  • सैन्य हवाई अड्डा मिनहास राजधानी इस्लामाबाद से लगभग 60 किलोमीटर दूर कामरा में स्थित है.
  • पंजाब प्रांत में स्थित कामरा, पाकिस्तान वायुसेना का प्रमुख हवाई अड्डा है.
  • समाचार एजेंसियों के अनुसार ये हमला पाकिस्तान समयानुसार रात दो बजे शुरु हुआ.
  • हमलावरों की संख्या लगभग 12 थी. उन्होंने सेना की वर्दी पहन रखी थी.
  • हमलावरों ने हमले के लिए रॉकेट लॉंचरों का भी इस्तेमाल किया.
  • यहां पाकिस्तान एरोनॉटिकल कॉम्पलेक्स में जेएफ-17 और मिराज लड़ाकू विमान बनाए जाते हैं.
  • ये पाकिस्तान और चीन की चेंगदू एयरक्राफ्ट इंडस्ट्री कॉर्पोरेशन की संयुक्त परियोजना है.
  • कामरा में हाल के वर्षों में सैन्य ठिकानों पर कम से कम दो बार हमले हो चुके हैं.
  • अक्तूबर 2009 में कामरा स्थित सैन्य ठिकाने के बाहर एक जांच चौकी पर आत्मघाती हमला हुआ था.
  • इस हमले में पाकिस्तान एयरफोर्स के दो जवान और छह आम लोग मारे गए थे.
  • दिसम्बर 2007 में कार में सवार एक आत्मघाती हमलावर ने स्कूल बस पर हमला किया था.
  • इस हमले में कम से कम पांच बच्चे मारे गए थे. ये कामरा सैन्य ठिकाने में कार्यरत कर्मचारियों के बच्चे थे.
  • पाकिस्तान एयरोनॉटिक्स कॉम्पलेक्स में लड़ाकू विमानों बनाए जाते हैं जो दुनिया का सातवां बड़ा प्लांट है.
  • रडार मैंटेनेंस सेंटर भी कामरा में स्थित है जहां जमीनी रडार तैयार किए जाते हैं.
  • भारत-पाकिस्तान के बीच वर्ष 1971 में हुए युद्ध में सराहनीय योगदान के लिए निशान-ए-हैदर सम्मान से नवाजे गए पायलट ऑफिसर राशिद मिनहास के नाम पर इस हवाई ठिकाने का नामकरण किया गया है.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

इसी विषय पर और पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.