पाकिस्तान: ईशनिंदा के आरोप में बच्ची गिरफ्तार

 सोमवार, 20 अगस्त, 2012 को 00:13 IST तक के समाचार
फाइल फोटो

पाकिस्तान में मानवाधिकार कार्यकर्ता विवादित ईश-निंदा क़ानून में सुधार की मांग करते रहे हैं

पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद की पुलिस का कहना है कि उसने एक ईसाई बच्ची को क्लिक करें तौहीन-ए-मज़हब यानी ईश-निंदा क़ानून के तहत गिरफ्तार किया है.

बीबीसी उर्दू सेवा के ज़ुल्फिकार अली का कहना है कि इस बच्ची की उम्र 11 वर्ष है. बच्ची पर कुरान-ए-कायदा का अपमान करके उसकी एक प्रति में आग लगाने का आरोप है.

पुलिस ने इस बच्ची को दफ़ा 295-डी के तहत गिरफ्तार किया है. उसे 14 दिन की न्यायिक हिरासत में बाल-सुधारगृह भेज दिया गया है.

बच्ची की दिमागी हालत

"ये बच्ची में पास कचरे से भरा एक बैग था जिसमें कुरान भी थी. इससे कुछ लोग नाराज़ हो गए और भारी भीड़ जमा हो गई जो उसके खिलाफ कार्रवाई की मांग करने लगे."

पॉल भट्टी, राष्ट्रीय सद्भाव मंत्री

ये बच्ची इस्लामाबाद के गांव मेहरआबाद की रहने वाली है.

कहा जाता है कि उसकी दिमागी हालत ठीक नहीं है, लेकिन उसे क्या बीमारी है, इस बारे में अभी तक कुछ नहीं कहा गया है.

इस बारे में बच्ची की चिकित्सकीय जांच के बाद ही पता चल सकेगा.

क्लिक करें ईशनिंदा मामले में क़ैद किशोर को छोड़ा जाए

पुलिस ने बच्ची के माता-पिता को भी उनकी हिफ़ाज़त के मद्देनज़र ऐहतियातन हिरासत में ले लिया है.

पाकिस्तान के राष्ट्रीय सद्भाव मंत्री डॉक्टर पॉल भट्टी ने बीबीसी को बताया कि ये बच्ची ज़ेहनी तौर पर कमज़ोर है और प्रतीत होता है कि ''कुरान को अपवित्र करने के पीछे उसका कोई मक़सद नहीं था.''

उन्होंने बताया कि ये घटना 17 अगस्त को जुमे की नमाज़ के बाद की है.

उन्होंने कहा, ''खबरों के मुताबिक, ये बच्ची में पास कचरे से भरा एक बैग था जिसमें कुरान भी थी. इससे कुछ लोग नाराज़ हो गए और भारी भीड़ जमा हो गई जो उसके खिलाफ कार्रवाई की मांग करने लगे.''

पॉल भट्टी ने बताया, ''हमने पुलिस ने मामले की जांच करने और बच्ची की चिकित्सकीय जांच खासतौर पर कराने के लिए कहा है. पुलिस पर लोगों का दबाव था, इसलिए उसे ये कार्रवाई करनी पड़ी.''

गांव वाले भागे

फाइल फोटो

पाकिस्तान में ईश निंदा के लिए ईसाईयों को पहले भी सज़ा सुनाई गई है

मेहरआबाद गांव में रहने वाले ईसाई लोगों के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने बताया कि लगभग 600 लोग गांव से भाग गए, लेकिन पुलिस ने उन्हें अपने घर लौटने के लिए कहा है और सुरक्षा का भरोसा दिलाया है.

मज़हबी नेताओं के रुख़ के बारे में पूछे जाने पर पॉल भट्टी ने कहा कि उन्होंने इस बारे में तमाम नेताओं से बात की है जिन्होंने सहयोग करने की बात कही है.

उन्होंने ये भी कहा कि क़ानून ग़लत नहीं है, क़ानून का ग़लत इस्तेमाल ज़रूर हो सकता है और इस मामले में लोगों को शिक्षित करने और उनमें सहिष्णुता बढ़ाने की ज़रुरत है.

क्लिक करें नहीं बदलेगा ईश निंदा क़ानून

पाकिस्तान में मानवाधिकार कार्यकर्ता विवादित ईश-निंदा क़ानून में सुधार की मांग करते रहे हैं. इस क़ानून के तहत किसी व्यक्ति को कुरान अपवित्र करने के लिए उम्रकैद की भी सज़ा दी जा सकती है.

पाकिस्तान में इस तरह के मामलों में आमतौर पर भीड़ हिंसक होकर ईश-निंदा करने वाले को मार डालती है. यहां तक कि जिन नेताओं ने इस क़ानून में बदलाव की मांग की है, उन्हें भी निशाना बनाया गया है.

बीते साल इसी वजह से अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री शहबाज़ भट्टी की हत्या कर दी गई थी.

भट्टी की हत्या से दो महीने पहले ही इसी सिलसिले में पंजाब के गवर्नर सलमान तासीर की हत्या कर दी गई थी.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

इसी विषय पर और पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.