कराची कपड़ा फैक्ट्री आग में 290 लोगों की मौत

 बुधवार, 12 सितंबर, 2012 को 20:00 IST तक के समाचार

पाकिस्तान के कराची शहर की एक कपड़ा फैक्ट्री में लगी आग में मरने वालों की संख्या 290 हो गई है.

बचाव कर्मी अब भी कपड़ा फैक्ट्री की छत और बेसमेंट तक पहुंचने की कोशिश कर रहे हैं जहां रात भर से आग लगी हुई है.

प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार लोग ऊपरी मंजिल पर खिड़कियों से लटके हुए थे और आग से बचने के लिए छत से छलांग लगा रहे थे. रात भर करीब 40 दमकल आग बुझाने में लगे रहे.

पाकिस्तानी अधिकारियों के मुताबिक फैक्ट्री की खिड़कियों पर लोहे के जाली लगाई गई थी और आग की स्थिति में बाहर निकलने के लिए व्यवस्था नहीं थी.

जब आग लगी उस वक्त करीब 1600 कर्मचारी फैक्ट्री में मौजूद थे. कुछ लोग बहुमंज़िला इमारतों में फँस गए जिसमें बच्चे और महिलाएँ भी शामिल हैं.

आग में झुलसे कई लोगों के शव पहचाने जाने की स्थिति में नहीं हैं.

आग के कारण क्या थे इस बारे में अभी कुछ पता नहीं चला है पर शंका जताई जा रही हैं कि आग शार्ट सर्किट की वजह से लगी.

लाहौर फैक्ट्री में आग

इससे पहले एक अलग घटना में लाहौर में जूतों की एक फैक्ट्री में आग लगने से 25 लोगों की मौत हो गई.

इस फैक्ट्री में आग लगने का कारण खराब जेनरेटर बताया जा रहा है.

लाहौर में स्वास्थ्य कर्मियों का कहना है कि कुछ लोग दम घुटने से मर गए जबकि बाकी आग में जल गए.

एपी समाचार एजंसी ने एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी के हवाले से लिखा है कि छह लोग घायल भी हुए हैं.

इस अधिकारी ने एपी को बताया कि लाहौर फैक्ट्री में आग तब लगी जब बिजली गुल होने के बाद लोगों ने जेनरेटर चलाने की कोशिश की और फैक्ट्री में रखे रसायनों ने आग पकड़ ली.

आग से ज़िंदा बच निकले एक कर्मचारी ने बताया कि रसायन और जेनरेटर गराज में रखे गए थे और इमारत से बाहर जाने का रास्ता भी यहीं से था.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.