ऐसे बढ़ी कहानी
पाक चुनाव के नतीजे

 रविवार, 12 मई, 2013 को 15:56 IST तक के समाचार
ताज़ा अपडेट देखने के लिए पन्ना रिफ़्रेश करें या जावास्क्रिप्ट एनेबल करें
  1. पाकिस्तान चुनाव के नतीजे: पाकिस्तान मुस्लिम लीग (एन) सबसे आगे, इमरान ख़ान की पार्टी पिछड़ी

  2. पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में नवाज़ शरीफ़ की पार्टी का दबदबा

  3. नवाज़ शरीफ़

    "हमें अल्लाह का शुक्रिया करना चाहिए कि उसने हमारी पार्टी को आपकी सेवा का एक और अवसर दिया है. मैं सभी पार्टियों से अपील करता हूं कि वे हमारे पास आकर बैठें और देश की समस्याएं हल करने का प्रयास करें."

  4. बढ़त मिलने के बाद नवाज़ शरीफ़ अपने समर्थकों का अभिवादन करते हुए

  5. पाकिस्तान में ऐतिहासिक वोट पड़े. चुनाव आयोग के अनुसार इन चुनावों में 60 फ़ीसदी वोट पड़े. पाकिस्तान के चुनाव आयोग के अनुसार पिछली बार मतदान का प्रतिशत महज़ 44 था.

  6. पाकिस्तान पीपल्स पार्टी के उम्मीदवार और निवर्तमान प्रधानमंत्री राजा परवेज़ अशरफ़ की करारी हार हुई है. उन्हें पाकिस्तान मुस्लिम लीग(नवाज़) के उम्मीद राजा मोहम्मद जावेद इख़्लास ने हराया. इख़लास को 82,339 वोट और परवेज़ अशरफ़ को 23,233 मिले.

  7. पूर्व प्रधानमंत्री और पीएमएम (एन) पार्टी के नेता नवाज़ शरीफ़ शनिवार को लाहौर में पार्टी कार्यालय से अपने समर्थकों का हाथ हिलाकर अभिवादन करते हुए.

  8. लिस डूसेट, मुख्य अंतरराष्ट्रीय संवाददाता, इस्लामाबाद

    बहुत लोगों को संदेह था कि चुनाव होंगे ही नहीं. कई हथियारबंद गुट इन्हें रोकना चाहते थे. लेकिन परिवर्तन की ताक़त ज़्यादा बलवति साबित हुई. अब नतीजे बता रहे हैं कि पाकिस्तान को किस तरह का परिवर्तन चाहिए.

  9. पाकिस्तान मुस्लिम लीग नवाज़ के समर्थक पार्टी के चुनाव चिन्ह वाली कार में रावलपिंडी की सड़कों पर

  10. शाहज़ेब जिलानी, बीबीसी संवाददाता, कराची

    कराची के हालात और भी ख़राब हो गए हैं.  चुनाव प्रक्रिया पर सवाल उठाए जा रहे हैं. उम्मीदवारों का कहना है कि चुनाव ना तो पारदर्शी थे और ना ही निष्पक्ष.  

  11. डाइनलोड करे

    चुनाव से ठीक तीन दिन पहले लाहौर में एक रैली के दौरान इमरान ख़ान लिफ़्ट से लुढ़क गए. उसके बाद वे प्रचार में हिस्सा नहीं ले पाए. क्या ये दुर्घटना पर तहरीके इंसाफ़ को मंहगी पड़ी?

  12. इरम अब्बासी, बीबीसी इस्लामाबाद

    ईरान और अफ़गानिस्तान से सटी पाकिस्तान की सीमाएं तीन दिन के लिए सील की गई है. अधिकारियों के मुताबिक घुसपैठ रोकने के लिए ये कदम उठाए गए हैं.

  13. पाकिस्तानी राजनेता और पूर्व क्रिकेटर इमरान खान की पार्टी को उम्मीद के अनुसार कामयाबी तो नहीं मिली, फिर भी उनके समर्थकों में उत्साह है.

  14. दुनिया न्यूज़, पाकिस्तान

    पाकिस्तान के एनए-37 सीट पर नतीजे घोषित किए जाने के बाद इलाके में स्थिति तनावपूर्ण, पाराचिनार मार्केट में अनिश्चितकालीन कर्फ्यू घोषित. पीएमएल-एन और पीटीआई समर्थकों के बीच झड़पें.

  15. 'इमरान ख़ान से बेहतर हैं नवाज़ शरीफ़'.

    ये कह रहे हैं विदेशी मामलों के जानकार राजीव डोगरा. विशेष लेख पढ़ने के लिए क्लिक करें

  16. डॉन अख़बार का संपादकीय

    'पाकिस्तान के लिए ये दिन राजनीतिक पार्टियों की परिपक्वता और सेना व  न्यायपालिका के संयम बरतने के कारण आया है.'

  17. द नेशन, पाकिस्तानी अख़बार

    जिन्होनें वोट नहीं किया: पूर्व सेना प्रमुख जनरल परवेज़ मुशर्रफ़ इस्लामाबाद में नज़रबंद रखे जाने की वजह से वोट नहीं डाल पाए. पीटीआई प्रमुख इमरान खान हाल ही में एक चुनावी रैली में घायल हो गए थे, उनका इलाज चल रहा है, वो भी वोट नहीं डाल पाए. अवामी तहरीक के नेता डॉक्टर ताहिरुल क़ादरी ने भी वोटिंग में हिस्सा नहीं लिया. पाकिस्तान की चुनावी प्रक्रिया में वो अपना अविश्वास जताते रहे हैं.

  18. इन चुनावों में वोटरों ने बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया और तालिबान चरमपंथियों को करारा जबाव दिया है. तालिबान ने न सिर्फ कई पार्टियों के उम्मीदवारों पर हमले लिए, बल्कि आम लोगों से भी वोट न डालने को कहा था.

  19. डॉन अख़बार का संपादकीय

    'चाहे वोटर सत्ताधारी पक्ष से नाराज थे लेकिन वे लोकतांत्रिक प्रक्रिया को आगे बढ़ाना चाहते थे. सदा से इंतजार में बैठी लोकतंत्र-विरोधी ताकतों से इस बार (उन्होंने) गुहार नहीं लगाई......दुख इस बात का है कि प्रचार के दौरान दोनों खेमे - जो सड़क पर उतर सके और जो मीडिया के जरिए ही प्रचार कर पाए - ऐसा कुछ नहीं कह पाए जिससे संकेत मिले कि पाकिस्तान चरमपंथ की चुनौती को समझने, स्वीकार करने और इसका जवाब देने के करीब है.

     

  20. कयानी

    पाकिस्तान के सेना प्रमुख जनरल अशफ़ाक़ परवेज़ कयानी ने शनिवार को रावलपिंडी में अपना वोट डाला. कयानी ने पहले भी पाकिस्तान में लोकतंत्र पर भरोसा जताया था. पाकिस्तानी सेना ने खुद उनकी ये तस्वीर जारी की, जिसे एक महत्वपूर्ण कदम माना जा रहा है.

  21. दुनिया टीवी, पाकिस्तान

    लाहौर: ज़िले के रिटर्निंग अफ़सर ने समय पर नतीजे घोषित नहीं हो पाने की वजह से 19 संबंधित अफसरों की गिरफ्तारी के आदेश दिए है.

  22. लंदन के गार्डियन अखबार में जेसन बर्क:

    इस चुनाव में (पाकिस्तान के) मीडिया ने खासी बहस छेड़ी जो चाहे शोर जैसी लगे लेकिन उसमें कड़वाहट नहीं थी...1999 के सैन्य तख़्तापलट को परिभाषित करने वाली तस्वीर थी - सेना का पाकिस्तान टीवी के दफ्तर पर कब्जा करना - अब सेना के लिए अनेकों अनेक निजी चैनलों को दबाना असंभव होगा...उन कुछ घंटों के लिए भी नहीं जब वो सत्ता पर कब्ज़ा कर रही हो. इसी के साथ जनता अब ऐसी कार्रवाई बर्दाश्त करने वाली नहीं है. इसीलिए सैन्य वर्दी वाले पीछे हट गए हैं.

  23. भारतीय अखबार टाइम्स ऑफ़ इंडिया में :

    नवाज़ शरीफ़ के पैतृक गांव अमृतसर स्थित जट्टी उमरा में उनकी चुनावी जीत के लिए गुरुद्वारे में अरदास हुई  थी..... और चुनावी नतीजे आने के बाद वहाँ खुशियां मनाई जा रही हैं और मिठाई बांटी जा रही है.

     

  24. देखिए तस्वीरों में

  25. पाकिस्तानी मीडिया (जियो न्यूज़, डेली टाइम्स)

    कुछ बड़े नेता जो हारे: पूर्व प्रधानमंत्री और पीपीपी नेता राजा परवेज़ अशरफ़, पूर्व सूचना मंत्री क़मर जमां कैरा और पूर्व जल संसाधन मंत्री चौधरी अहमद मुख़्तार पंजाब में अपनी-अपनी सीटों से हार गए. पीटीआई की तरफ से चुनाव लड़ रहे उनके प्रमुख उम्मीदवार शाह महमूद क़ुरैशी उमरकोट में पराजित हुए हैं.

  26. पाकिस्तान में एक अख़बार विक्रेता, चुनाव में नवाज़ शरीफ़ की सफलता की सुर्खि़यों से भरे पड़े अख़बार के साथ

  27. पाकिस्तानी अख़बार जंग

    सिंध प्रांत में कुल 130 असेंबली सीटों में से 34 के नतीजे आ गए हैं जिनमें 24 सीटें लेकर पीपीपी सबसे आगे चल रही है जबकि एक सीट पीएमएल(एन) को मिली है और छह सीटें अभी तक एमक्यूएम के खाते में गई हैं.

  28. पाकिस्तानी टीवी चैनल एक्सप्रेस न्यूज़

    272 में से 166 नतीजे घोषित. पाकिस्तान मुस्लिम लीग - 95, तहरीके इंसाफ़ - 21, पाकिस्तान पीपल्स पार्टी - 16, एक्यूएम-8

  29. पाकिस्तानी अख़बार जंग

    पंजाब की प्रांतीय एसेंबली की 297 सीटों में से 104 के नतीजे आ गए हैं. इनमें से पीएमएल (एन) के खाते में अब तक 79 सीटें जा चुकी हैं, जबकि पीपीपी को वहां अभी एक ही सीट मिली है. इमरान खान की पार्टी को पंजाब में अब तक छह सीटें मिल चुकी हैं. निर्दलीय उम्मादवारों को 14 सीटें अब तक मिली हैं तो पीएमएल(क्यू) और जमात-ए-इस्लामी को एक एक सीट मिली है.

  30. डॉन डॉट कॉम

    पाकिस्तान मुस्लिम लीग (नवाज़) के प्रमुख नवाज़ शरीफ़ ने रायविंड में अपने पार्टी के नेताओं की एक बैठक बुलाई है. अपुष्ट सूत्रों से मिल रहे आंकड़ों के अनुसार नवाज़ शरीफ़ को पाकिस्तान में ऐतिहासिक जीत मिल रही है.

  31. पढ़िए क्या नतीजे रहे पाकिस्तानी की प्रांतीय असेंबलियों में.

  32. पढ़िए - नवाज़ शरीफ़ के सियासी जीवन के उतार-चढ़ाव

     

  33. ज़ाहिद हुसैन, वरिष्ठ पत्रकार और लेखक

    पीएमएल-एन बहुमत के क़रीब है. उम्मीद है कि वो इस बार साल 1997 की अपनी गलती नहीं दोहराएंगे जब उन्हें 'पूर्ण बहुमत' मिला था.

  34. रज़ाउल हसन लश्कर, पाकिस्तान में भारतीय पत्रकार

    पत्रकारों के लिए थोड़ा बुरा लग रहा है, ख़ासतौर पर ब्रितानी अख़बारों के लिए, जिन्होंने बिना सोचे-समझे ये कहा था कि पाकिस्तान में राजनैतिक सुनामी सब कुछ बहा कर ले जाएगी.

  35. द एक्सप्रेस ट्रिब्यून, पाकिस्तानी अख़बार

    पाकिस्तान तहरीक ए इंसाफ़ के अध्यक्ष मख़दूम जावेद हाशमी ने कहा है कि उनकी पार्टी पाकिस्तान मुस्लिम लीग – नवाज़ के साथ गठबंधन नहीं करेगी. अपुष्ट चुनावी नतीजों के अनुसार पीएमएल-एन सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है.

  36. सलमान ख़ुर्शीद, भारत के विदेश मंत्री

    पाकिस्तान में लोकतांत्रिक चुनावी प्रक्रिया से जो भी नतीजे निकले हैं भारत उसका स्वागत करेगा. हमारी सरकार के नवाज़ शरीफ़ से संबंध रहे हैं. भारत के प्रधानमंत्री की तरफ़ से भी उन्हें बधाई दी जाएगी.

  37. अंतरराष्ट्रीय मीडिया में पाकिस्तानी चुनाव नतीजों पर प्रतिक्रिया

  38. नवाज़ शरीफ़ ने संडे टेलीग्राफ़ से बातचीत में कहा:

    मुझे अमरीका के साथ काम करने का तजुर्बा है और मुझे उनके साथ आगे काम करने में भी खुशी होगी. जो चीज़ सबसे अहम है वो ये कि हम अपनी सरज़मीन को दुनिया के किसी मुल्क के ख़िलाफ़ इस्तेमाल न होने दें.

  39. पाकिस्तान मुस्लिम लीग के समर्थकों में काफ़ी जोश देखा जा रहा है. वहीं पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ़ के खेमें में मायूसी छाई हुई है.

  40. बीबीसी ऊर्दू के आसिफ फारूकी

    ज्यादातर पाकिस्तानी मतदाताओं ने बेहतर प्रशासन को तवज्जो दी है और इसीलिए केंद्र के साथ साथ खैबर पख्तून ख्वाह में सत्ताधारी पार्टियों का सफाया गया है. ये नई सरकार के लिए भी एक सबक होगा.

  41. नवाज़ शरीफ़ के जीवन से जुड़ी कुछ तस्वीरें

  42. पाकिस्तान में वोटों की गिनती जारी है. अब तक के नतीजे इस प्रकार हैं:

  43. अब्दुल लतीफ नज़ारी, राजनीतिक विश्लेषक - (अफ़ग़ानिस्तानी चैनल नूर टीवी)

    पाकिस्तान में हो रहे चुनाव को हम बदलाव या नीति परिवर्तन के तौर पर नहीं कह सकतें. देश की राजनीतिक प्रक्रियाओं को लेकर अब भी आशावादी नहीं हुआ जा सकता. पाकिस्तान की सेना को चुनावों से हाथ खींच लेने चाहिए और राजनेताओं को राजनीति करनी चाहिए. पाकिस्तान में ऐसी स्थिति अभी तक नहीं दिखती, पर्दे के पीछे हो रहे खेल के असली सूत्रधार सेना और उसके अधिकारी हैं.

  44. अब्दुल कयूम सज्जादी, सांसद - अफ़ग़ानिस्तान (सौजन्य - अफ़ग़ानिस्तानी चैनल टोलो टीवी)

    सबसे महत्वपूर्ण बात ये है कि तमाम तरह की धमकियों के बावजूद लोगों ने चुनावों में वोट डाले. मुझे लगता है कि ज़्यादा मतदान की दो वजहें हैं, पहली ये कि लोगों ने चरमपंथियों को एक नकारात्मक संदेश भेजा हैं और दूसरा ये कि लोगों ने लोकतंत्र के प्रति भरोसा दिखाया है

  45. इमरान खान, पाकिस्तान तहरीक ए इंसाफ़ (वीडियो संदेश)

    इस विशाल लोकतांत्रिक प्रक्रिया में शामिल होने के लिए मैं लोगों का शुक्रगुज़ार हूं. हम लोकतंत्र की तरफ़ सकारात्मक क़दम बढ़ा रहे हैं. कई लोग जिन्होंने अपने जीवन में कभी वोट नहीं डाला वो भी वोट डालने के लिए घर से बाहर निकलें, ये जज़्बा देखकर पूरा देश खुश है. पाकिस्तान की आवास में अब इस बात का इल्म है कि उनका भाग्य उनके ही हाथों में है.

  46. अमृतसर से 35 किलोमीटर दूर है नवाज़ शरीफ़ का पुश्तैनी गांव जट्टी उमरा. यहां पर भी उनकी जीत की ख़ुशी का जश्न मनाया गया.

  47. इश्तियाक अहमद, सचिव पाकिस्तान चुनाव आयोग ने कहा है कि अब तक आधिकारिक रूप से नेशनल असेंबली की सिर्फ़ 44 सीटों के नतीजे घोषित किए गए हैं.

     

  48. इमरान ख़ान ने अस्पताल के बिस्तर से एक वीडियो संदेश जारी कर कहा है कि उनकी पार्टी चुनावों में धांधली के बारे में एक श्वेत पत्र जारी करेगी

ख़ास बातें

12 मई, 2013
पाकिस्तान में जो हो रहा है वो अप्रत्याशित है. आज से पहले कभी किसी लोकतांत्रिक रुप से चुनी गई सरकार ने दूसरी चुनी हुई सरकार को सत्ता हस्तातंरित नहीं की है.
  • मुख्य मुकाबला पीएमएल (एन) और पाकिस्तान तहरीके इंसाफ के बीच. पिछली सरकार का नेतृत्व करने वाली पीपीपी का प्रचार सुस्त रहा.
  • चुनाव प्रचार के दौरान उम्मीदवारों पर चरमपंथी हमले हुए जिनमें 110 लोग मारे गए और सैकड़ों घायल हो गए.
  • तालिबान ने पीपीपी, एनएनपी और एमक्यूएम को खास तौर से निशाना बनाया.
  • मतदान वाले दिन भी कराची में धमाके में 11 लोग मारे गए जबकि कई अन्य हिस्सों से भी हिंसक घटनाओं की खबरें मिलीं.
  • चुनाव प्रचार के दौरान पूर्व प्रधानमंत्री यूसुफ रजा गिलानी के बेटे को अगवा कर दिया जबकि तहरीके इंसाफ पार्टी के प्रमुख इमरान खान एक हादसे में घायल हो गए.
  • इन हालात में भी चुनावों को लेकर लोगों में गजब का उत्साह देखा गया. इसलिए वोटिंग की निर्धारित अवधि को एक घंटा बढ़ाया गया.
  • बीते पांच साल में पाकिस्तान न सिर्फ चरमपंथी हिंसा से जूझता रहा बल्कि उसकी आर्थिक हालत भी खराब रही. इसलिए लोग पीपीपी सरकार से नाराज बताए जाते हैं.
  • भारत समेत दुनिया भर की नजरें चुनावों पर टिकी हैं. अमरीका ने कहा है कि वो किसी एक दल का समर्थन नहीं करता, बस चुनाव स्वतंत्र और निष्पक्ष रहें.

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.