BBCHindi.com
अँग्रेज़ी- दक्षिण एशिया
उर्दू
बंगाली
नेपाली
तमिल
 
गुरुवार, 23 मार्च, 2006 को 14:01 GMT तक के समाचार
 
मित्र को भेजें कहानी छापें
'भगत सिंह से बचती सरकारें'
 

 
 
भगत सिंह
भगत सिंह ने भारत की आज़ादी के लिए शहादत दी थी
भगत सिंह का लोग आज भी सम्मान करते हैं क्योकि उन्होंने न तो किसी सम्मान और न ही किसी पद के लिए बलिदान किया था.

उनका तो ध्येय था कि एक ऐसी व्यवस्था बने जिसमें हर व्यक्ति को मेहनत का और बराबरी का हक़ मिले.

भगत सिंह का मानना था कि इससे बड़ा ज़िंदगी में और कोई फल नहीं हो सकता कि लोग उनके दिखाए रास्ते को अपनाएँ.

उनका कहना था कि विचारधारा की जंग चलती रहती है और कामयाबी तक पहुँचने तक यह एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी तक चलती रहनी चाहिए.

सरकार के दायित्व का जहाँ तक सवाल है, वह इससे बचना चाहती है.

शायद इसलिए कि भगत सिंह ने जो सवाल उठाए थे, उनके जवाब सरकार के पास नहीं है.

पिछले वर्ष सरकार ने पहली बार 23 मार्च को संसद में भगत सिंह, राजगुरू और सुखदेव का सम्मान किया था.

इस बार प्रधानमंत्री 23 मार्च को पंजाब जा रहे हैं. लेकिन वो उन्हें श्रृद्धांजलि नहीं अर्पित कर रहे हैं.

मेरा मानना है कि आज की युवा पीढ़ी में उनका लेखन और विचार जानने की प्रेरणा जगी है क्योंकि ये विचार 50 वर्ष तक जनता से छुपा कर रखे गए थे. लोगों में इसे जानने की चेतना आ रही है.

युवा पीढ़ी उनके बारे जितना जानेंगी, उतना ही अच्छा है. भगत सिंह की आत्मा को इससे संतोष मिलेगा कि उनके काम को युवा आगे बढ़ा रहे हैं.

(आशुतोष चतुर्वेदी से बातचीत पर आधारित)

 
 
इससे जुड़ी ख़बरें
सुर्ख़ियो में
 
 
मित्र को भेजें कहानी छापें
 
  मौसम |हम कौन हैं | हमारा पता | गोपनीयता | मदद चाहिए
 
BBC Copyright Logo ^^ वापस ऊपर चलें
 
  पहला पन्ना | भारत और पड़ोस | खेल की दुनिया | मनोरंजन एक्सप्रेस | आपकी राय | कुछ और जानिए
 
  BBC News >> | BBC Sport >> | BBC Weather >> | BBC World Service >> | BBC Languages >>