BBCHindi.com
अँग्रेज़ी- दक्षिण एशिया
उर्दू
बंगाली
नेपाली
तमिल
 
बुधवार, 26 सितंबर, 2007 को 11:43 GMT तक के समाचार
 
मित्र को भेजें कहानी छापें
भगत सिंह: एक संक्षिप्त परिचय
 
भगत सिंह के बचपन की तस्वीर
भगत सिंह पर जलियांवाला बाग हत्याकांड का बहुत असर पड़ा था
भगत सिंह का जन्म 28 सितंबर, 1907 को लायलपुर ज़िले के बंगा में चक नंबर 105(अब पाकिस्तान में) नामक जगह पर हुआ था.

हालांकि उनका पैतृक निवास आज भी भारतीय पंजाब के नवांशहर ज़िले के खट्करकलाँ गाँव में स्थित है.

उनके पिता का नाम किशन सिंह और माता का नाम विद्यावती था. यह एक सिख परिवार था जिसने आर्यसमाज के विचार को अपना लिया था.

अमृतसर में 13 अप्रैल 1919 को हुए जलियांवाला बाग हत्याकांड ने भगत सिंह की सोच पर गहरा प्रभाव डाला था.

लाहौर के नेशनल कॉलेज़ की पढ़ाई छोड़कर भगत सिंह हिंदुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिकन ऐसोसिएशन नाम के एक क्रांतिकारी संगठन से जुड़ गए थे.

भगत सिंह ने भारत की आज़ादी के लिए नौजवान भारत सभा की स्थापना की थी. इस संगठन का उद्देश्य ‘सेवा,त्याग और पीड़ा झेल सकने वाले’ नवयुवक तैयार करना था.

भगत सिंह ने राजगुरू के साथ मिलकर लाहौर में सहायक पुलिस अधीक्षक रहे अंग्रेज़ अधिकारी जेपी सांडर्स को मारा था. इस कार्रवाई में क्रांतिकारी चंद्रशेखर आज़ाद ने भी उनकी सहायता की थी.

भगत सिंह
भगत सिंह ने नई दिल्ली की केंद्रीय एसेंबली में बम फेंका था.

क्रांतिकारी साथी बटुकेश्वर दत्त के साथ मिलकर भगत सिंह ने नई दिल्ली की सेंट्रल एसेंबली के सभागार में 8 अप्रैल, 1929 को 'अंग्रेज़ सरकार को जगाने के लिए' बम और पर्चे फेंके थे.

बम फेंकने के बाद वहीं पर दोनों ने अपनी गिरफ्तारी भी दी.

भगत सिंह पर ब्रिटिश शासन के ख़िलाफ़ जंग छेड़ने का आरोप लगा और उन पर लाहौर षड़यंत्र के तहत मामला बनाया गया.

लाहौर षड़यंत्र मामले में भगत सिंह को सुखदेव और राजगुरू के साथ फाँसी की सज़ा सुनाई गई जबकि बटुकेश्वर दत्त को आजीवन कारावास दिया गया.

भगत सिंह को 23 मार्च, 1931 की शाम सात बजे फाँसी पर लटका दिया गया.

इतिहासकार बताते हैं कि फाँसी को लेकर जनता में बढ़ते रोष को ध्यान में रखते हुए अंग्रेज़ अधिकारियों ने तीनों क्रांतिकारियों के शवों का अंतिम संस्कार फ़िरोज़पुर ज़िले के हुसैनीवाला में कर दिया था.

भगत सिंह ने क्रांतिकारी आंदोलन को ‘इंक़लाब ज़िंदाबाद’ का नारा दिया था.

 
 
भगत सिंहभगत सिंह पर राय...
क्या प्रासंगिक हैं भगत सिंह और क्या आज भी उनकी ज़रूरत है भारत को...
 
 
शहीद सुखदेव शहीद सुखदेव
भगत सिंह के साथ फाँसी पर लटका दिए गए सुखदेव का एक संक्षिप्त परिचय.
 
 
शहीद राजगुरूशहीद राजगुरू
भगत सिंह के साथ फाँसी पर लटकाए गए राजगुरू का संक्षिप्त जीवन परिचय.
 
 
खट्करकलाँचिराग तले अंधेरा...
भगत सिंह के गाँव में आज सबकुछ है पर भगत सिंह को खोजने निकलो तो...
 
 
इससे जुड़ी ख़बरें
'भगत सिंह से बचती सरकारें'
23 मार्च, 2006 | भारत और पड़ोस
सुर्ख़ियो में
 
 
मित्र को भेजें कहानी छापें
 
  मौसम |हम कौन हैं | हमारा पता | गोपनीयता | मदद चाहिए
 
BBC Copyright Logo ^^ वापस ऊपर चलें
 
  पहला पन्ना | भारत और पड़ोस | खेल की दुनिया | मनोरंजन एक्सप्रेस | आपकी राय | कुछ और जानिए
 
  BBC News >> | BBC Sport >> | BBC Weather >> | BBC World Service >> | BBC Languages >>