चश्मा करेगा वीडियो रिकॉर्डिंग

इमेज कॉपीरइट SNAP

स्नैप चैट मैसेंजिंग एप ने अपना पहला गैजेट कैमरे वाला चश्मा पेश किया है.

कंपनी ने इसका नाम स्पैक्टेकेल्स रखा है, कंपनी इस विशेष चश्मे को इस साल के अंत तक बाज़ार में उतारेगी.

इस चश्मे की कीमत 130 अमरीकी डॉलर यानी लगभग 8710 रुपए रखी गई है.

इस चश्मे से एक समय में 30 सेकंड तक का वीडियो बनाया जा सकता है.

घोषणा के दौरान बताया गया कि स्नैपचैट का नाम बदलकर स्नैपइंक किया जा रहा है.

स्नैपचैट युवाओं में ख़ासा पॉपुलर है.

स्नैप बनाने वाले 26 वर्षीय इवान श्पीगल ने बताया कि स्पैक्टेकेल्स बनाने का आइडिया उन्हें कहां से आया.

उन्होंने कहा ''यह हमारी पहली छुट्टियां थीं, हम लोग कैलिफोर्निया के स्टेट पार्क गए थे. वहां जंगलों में घूम रहे थे और खूबसूरत पेड़ों को देखते हुए आगे बढ़ रहे थे.''

''जब हम वापस आए और हम लोगों ने वीडियो देखा तो हम विश्वास ही नहीं कर पाए कि हमलोगों ने ये खूबसूरत नज़ारे अपनी आंखों से देखे हैं. वह सबकुछ अविश्वसनीय था.''

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption गूगल ने भी किया था कुछ साल पहले कैमरे वाला चश्मा पेश

स्पेक्टैकल्स को देखने के बाद कई लोगों को गूगल ग्लास की याद आ गई होगी. गूगल ने भी एक स्मार्ट ग्लास बनाने की कोशिश की थी.

जब गूगल ग्लास विकसित होकर लोगों तक पहुंचा तो उसकी कीमत लगभग 1500 अमरीकी डॉलर यानी लगभग एक लाख रूपए थी.

यह डिवाइस लोगों की पसंद का उत्पाद नहीं बन पाई और कंपनी को इसका उत्पादन रोकना पड़ा, लेकिन वीडियो रिकॉर्डिंग करने वाले चश्मे का आइडिया पूरी तरह से खत्म नहीं हुआ था.

उस समय रिकॉर्डिंग करने वाले चश्मे का लोगों ने स्वागत न करते हुए इसे लोगों की निजता में ख़लल डालने वाली तकनीक बताया था, जबकि कई लोगों ने इसे देखने में अजीब सा भी बताया था.

ऐसा माना जा रहा है कि स्नैप के इस प्रयास का लोग स्वागत करेंगे और इसकी बड़ी वजह स्नैप का इस चश्मे की कम कीमत है.

श्पीगल ने वॉल स्ट्रीट जर्नल को बताया कि हम किसी भी तरह की जल्दबाजी में नहीं है, हम देखेंगे कि लोग इसे किस तरह से अपनी जिंदगी का हिस्सा बनाते हैं और इसे किस तरह से पसंद करते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)